Aeroponic Potato Farming: अब जमीन नहीं हवा में उगेगा आलू? इससे बढ़ जाएगी आपकी आमदनी, जानें इसका आसान तरीका

Aeroponic Potato Farming: हम सभी को पता है कि आलू जमीन के अंदर उगता है। इसके लिए किसान प्रॉपर बीज डालकर, जुताई, बुआई करता है और उसके बाद कहीं जाकर हमें आलू की पैदावार मिलती है। आलू हर किसी का फेवरेट होता है और इससे हम कुछ भी टेस्टी डिश बना सकते हैं। मगर यहां हम आपको एक ऐसी खबर बताएंगे जिसे सुनकर आप हैरान रह जाएंगे। शायद ही आप जानते हों कि आलू की खेती हवा में भी हो सकती है। खेती-किसानी में नए तकनीक जोड़ने के कारण ये संभव हो पाया है। Aeroponic Potato Farming कैसे होता है चलिए जानते हैं।

कैसे उगता है हवा में आलू?

हरियाणा के करनाल जिले में आलू प्रोद्योगिकी में एरोपोनिक तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक, इस तकनीक से खेती करने पर आलू की पैदावार 10 गुना बढ़ती है। सरकार भी इस तकनीक से खेती करने की मंजूरी किसानों को दे चुकी है। अब Aeroponic Potato Farming आपके लिए सुविधाजनक बन जाएगी। एरोपोनिक तकनीक में आलू में लटकती जड़ें ही उन्हें पोषक देती हैं। इसके बाद में मिट्टी और जमीन की जरूरत नहीं पड़ती है। एक्सपर्ट्स कहते हैं कि एरोपोनिक तकनीक से किसानों के लिए आलू की खेती करना आसान हो गया है। इससे किसान कम समय और लागत में आलू की ज्यादा पैदावार हासिल कर रहे हैं। आलू की ज्यादा पैदावार से किसानों को अधिक आमदनी होगी।

potatoes
Image credits: Pexels

हरियाणा के करनाल जिले में आलू प्रौद्योगिक केंद्र में बताया गया है कि आलू के बीच के उत्पादन की क्षमता को 3-4 गुना बढ़ाया गया है। इस तकनीक से अन्य राज्यों के किसानों को भी लाभ पहुंच सकता है। इस तकनीक का उपयोग पत्तेदार सागा, स्ट्रॉबेरी, खीरे, टमाटर और अन्य जड़ी बूटियों के लिए भी किया जा सकता है। किसानों के बीच एरोपोनिक फार्मिंग की जागरुकता फैलाने के लिए कई सेंटर भी बनाए गए हैं। इसी अधिक जानकारी आपको एग्रीचल्चर के आधिकारिक वेबसाइट पर मिल सकती है।

इसे भी पढ़ें: MP Agricultural Scheme: किसानों के लिए खुशखबरी! अब अनाज बेचने की जिम्मेदारी लेंगी ये कंपनियां, जानें कैसे?