टाटा ग्रुप की BigBasket से मुकेश अंबानी की इन रिटेल कंपनियों पड़ सकता है असर, जानें कारण

Mukesh Ambani
Image Credit: Mukesh Ambani/ Twitter

टाटा ग्रुप का अब मुकेश अंबानी की कंपनियों के साथ मुकाबला देखने को मिल सकता है क्योंकि टाटा डिजिटल (Tata Digital) ने ऑनलाइन ग्रॉसरी BigBasket में मैज्योरिटी स्टेक का अधिग्रहण कर लिया है. इससे मुकेश अंबानी की रिटेल सेक्टर की कंपनियों पर असर पड़ सकता है.

जैसे कि रिलायंस रीटेल, ऐमजॉन और फ्लिपकार्ट जो कि सीधे ग्राहक से जुड़ी गुई हैं. हालांकि इस डील की आधिकारिक रूप से पुष्टि नहीं की गई है. लेकिन रेग्युलेटरी फाइलिंग के मुताबिक कंपनी की बिगबास्केट में करीब 64 फीसदी हिस्सेदारी लेने की बात सामने आ रही है.

ईटी से मिली जानकारी के मुताबिक बिगबास्केट के बोर्ड की मंजूरी मिलने के बाद टाटा डिजिटल ने बेंगलूरु की स्टार्टअप कंपनी में 20 करोड़ डॉलर का पहला निवेश किया है. आपको बता दें कि पिछले महीने भारतीय प्रतिस्पर्द्धा आयोग (CCI) ने इस डील को मंजूरी दी थी.

Curefit में हिस्सेदारी के लिए हो रही है बातचीत

बताया जा रहा है कि टाटा ग्रुप अब फिटनेस स्टार्टअप क्योरफिट (Curefit) के साथ भी बातचीत कर रहा है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार Curefit के फाउंडर मुकेश बंसल से टाटा ग्रुप की डिजिटल बिजनेस में अहम जिम्मेदारी हो सकती है. मुकेश बंसल पर पिछले 5 साल से Curefit की जिम्मेदारी है. आपको बता दें कि मुकेश बंसल इस समय Myntra के को-फाउंडर भी हैं.

टाटा ग्रुप अब ऑनलाइन रिटेल बाजार में निवेश करने की सोच रहा है. जिससे इस ग्रुप की बिजनस को एक प्लेटफॉर्म नीचे लाने के लिए सुपर एप लांच कर सकती है. माना जा रहा है कि टाटा ग्रुप 1mg में 55 फीसदी की हिस्सेदारी कर सकता है. इससे पहले ईटी ने बताया था कि टाटा ग्रुप ने अपने शेयर कैपिटल 1,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 11,000 करोड़ रुपये कर दी है. इससे पता चला रहा है कि टाटा अपने आप ऑनलाइन रिटल बिजनेस को तेजी के साथ बढ़ाना चाहता है.

ये भी पढ़ें: Amazon ने 61.5 हजार करोड़ में खरीदा MGM स्टूडियो, Netflix को मिलेगी टक्कर