SBI VS POST OFFICE: पोस्ट ऑफिस और एसबीआई ! कौन सा है बेहतर ऑपेशन,जानिए कहां पैसा इन्वेस्ट करने से होगा आपको ज्यादा फायदा

POST OFFICE VS SBI
SOURCE - THE VOCAL NEWS

SBI VS POST OFFICE: हर महीने आमदनी देने वाली योजनाओं में जो योजनाएं सर्वाधिक लोकप्रिय हैं, उनमें, पोस्ट ऑफिस की मासिक आय योजना (Post Office Monthly Income Scheme) और स्टेट बैंक की मासिक आय योजना (SBI Monthly Income Scheme) प्रमुख हैं। इस लेख में, हम पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना और एसबीआई वार्षिक आय योजना की तुलना (SBI VS POST OFFICE) पेश करेंगे। साथ ही यह भी बताएंगे कि, कौन सी योजना किस तरह से आपके लिए बेहतर निवेश साबित हो सकती है।

POST OFFICE MONTHLY SCHEME

पोस्ट आफिस मासिक आय योजना में आपको 5 साल के लिए एकमुश्त (Lump Sum) जमा करना पडता है। इस जमा का जो ब्याज बनता है वह आपको हर महीने बराबर-बराबर किस्त के रूप में, मिलता है। आपकी जमा पूंजी भी 5 साल बाद आपको वापस मिल जाती है। इसमें अधिकतम 4.5 लाख रुपए तक जमा कर सकते हैं। 2 या 3 लोग मिलकर संयुक्त खाता (Joint Account) खुलवाते हैं तो अधिकतम 9 लाख रुपए तक जमा कर सकते हैं। 

SBI की वार्षिक जमा योजना

एसबीआई वार्षिकी जमा योजना एक मासिक आय योजना है जिसमें ग्राहक सीधे भुगतान कर सकते हैं। वर्ष के अंत में, ब्याज और मूलधन को जोड़कर एक अच्छी राशि पाई जाती है। जमा की परिपक्वता अवधि 36, 60, 84 या 120 महीने हो सकती है। कोई भी इस जमा योजना को खरीद सकता है। माइनर भी उसके लिए आवश्यकताओं को पूरा करता है। वे एसबीआई वार्षिकी जमा योजना में व्यक्तिगत रूप से या एक साथ खाते खोल सकते हैं। 14 जून, 2022 को निर्दिष्ट टैरिफ के अनुसार, बैंक वर्तमान में 5.45 प्रतिशत से 5.50 प्रतिशत ब्याज का वादा कर रहा है। यह वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5.95 और 6.30 प्रतिशत के बीच है।

SBI VS POST OFFICE:

निवेश की सुरक्षा

Post Office मासिक आय योजना का का पैसा भारत सरकार के पास जमा होता है। आपकी मांग पर, उसे लौटाने की जिम्मेदारी भी भारत सरकार की होती है। यानी कि आपका निवेश पूरी तरह सुरक्षित होता है। SBI योजना का पैसा, Mutual Fund में लगता है। इसका नियंत्रण सरकार के हाथ में नहीं होता। जाहिर है, यहां जोखिम ज्यादा होता है।

लाभ की संभावना

पोस्ट ऑफिस मासिक आय योजना की ब्याज सामान्यत: 8 प्रतिशत के आसपास रहती है। थोडा- बहुत ऊपर-नीचे भी हो सकती है। लेकिन, आपके निवेश के समय जो भी ब्याज दर होगी, अगले 5 साल तक आपको उसी दर पर मिलेगी। दूसरी तरफ, SBI  वर्तमान में 5.45 प्रतिशत से 5.50 प्रतिशत ब्याज का वादा कर रहा है। यह वरिष्ठ नागरिकों के लिए 5.95 और 6.30 प्रतिशत के बीच है।

यह भी पढ़ें: Kisan Credit Card- किसानों को अब बिना गारंटी के मिलेगा लोन,जानिए पूरी डिटेल