काम की बात: Railway ने किया ऐलान, अब चलती ट्रेन में बिना जुर्माने के तुरंत मिलेगी टिकट, देखें पूरी जानकारी

Train Confirm Ticket

Railway Update: भारतीय रेलवे (Indian Railway) यात्रियों की सुविधा के लिए कोई ना कोई फैसला लेता रहता है. इसी क्रम में रेलवे बोर्ड ने पूर्वोत्तर रेलवे रूट पर चलने वाली सभी ट्रेनों में एचएचटी अनिवार्य रूप से लागू करने का दिशा-निर्देश जारी कर दिया है. जिससे गोरखपुर से बनकर चलने वाली गोरखधाम, हमसफर, अमरनाथ, इंटरसिटी और राप्तीसागर एक्सप्रेस सहित दर्जन भर ट्रेनों के वेटिंग और आरएसी टिकट आटोमेटिक कन्फर्म हो जा रहे हैं. पूर्वोत्तर रेलवे के गोरखपुर पूर्व (वाराणसी मंडल) के बाद गोरखपुर पश्चिम (लखनऊ मंडल) के टिकट चेकिंग स्टाफ (टीटीई) भी हैंड हेल्ड टर्मिनल (एचएचटी) लेकर चलने लगे हैं. आइए इसके बारे में आपको विस्तार से जानकारी देते हैं.

पूर्वोत्तर रेलवे रूट की ट्रेनों में लागू होगा एचएचटी

रेलवे ने इज्जतनगर मंडल को 29, लखनऊ मंडल को 191 और वाराणसी मंडल को 96 मशीनें आवंटित कर दी हैं। सेंटर फॉर रेलवे इंफॉर्मेशन सिस्टम (क्रिस) दिल्ली से टिकट जांच कर्मियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है. एचएचटी की शुरुआत 18 जुलाई को वाराणसी मंडल में चलने वाली मौर्य एक्सप्रेस से हुई थी.धीरे-धीरे सभी ट्रेनों में चलने वाली टीटीई को एचएचटी उपलब्ध करा दी जाएगी. बर्थ से संबंधित सभी कार्य एचएचटी से ही किए जाएंगे. यानी पूरी व्यवस्था पेपरलेस हो जाएगी.

Railway

Indian Railway Recruitment 2022
image credit: Pixabay

एचएचटी का सिस्टम से क्या होगा फायदा

एचएचटी का सिस्टम रेल टेल के नेटवर्क फोर जी से चलेगा। टीटीई एचएचटी का उपयोग मोबाइल के रूप में भी कर सकेंगे. एचएचटी के साथ प्रत्येक टीटीई के नाम पर सिम भी मिला है. इसके अलावा एचएचटी से टिकट और जुर्माना भी बनने लगेगा. एचएचटी फर्जीवाड़ा पर भी रोक लगाएगा. आशंका होने पर एचएचटी से ही असली और नकली टिकट की जांच भी हो जाएगी. टीटीई किस ट्रेन में सफर कर रहे हैं, कितना टिकट और जुर्माना बना रहे हैं. ऑफिस में बैठे अफसरों को सूचना मिलती रहेगी. किराया और जुर्माने का पैसा सीधे रेलवे से संबद्ध बैंक के एकाउंट में चला जाएगा.

हाथों में हैंड हेल्ड टर्मिनल लेकर चलने लगे हैं टिकट चेकिंग स्टाफ

नई व्यवस्था से अनधिकृत बर्थ आवंटन पर अंकुश रोक लगेगा. टीटीई यात्रियों के नाट टर्नअप होने से जैसे ही खाली बर्थ एचएचटी में फीड करेंगे. आरएसी के बर्थ आटोमेटिक कन्फर्म हो जाएंगे. टिकट कन्फर्म की सूचना यात्रियों के मोबाइल पर पहुंच जाएगी. आरएसी क्लीयर होने के बाद बर्थ खाली होने पर प्रतीक्षा सूची के यात्रियों का टिकट भी कन्फर्म हो जाएगा. इसकी सूचना भी यात्रियों के मोबाइल पर पहुंच जाएगी. प्रतीक्षा सूची के यात्रियों को राहत मिलेगी साथ ही पारदर्शिता के साथ रियल टाइम बर्थ की उपलब्धता के बारे में जानकारी मिल जाएगी.

ये भी पढ़ें : New Delhi Railway Station: नई दिल्ली रेलवे स्टेशन को विश्वस्तरीय बनाने जा रही है सरकार, डिजाइन की तस्वीरें की जारी, देखें पूरी जानकारी