VOLUNTARY RETIREMENT SCHEME: VRS लेने वाले कर्मचारियों को कितना फायदा कितना नुकसान,समझिए वीआरएस का पूरा गणित

7th pay commission update
SOURCE- THE VOCAL NEWS

VOLUNTARY RETIREMENT SCHEME: सरकार जहां कर्मचारियों के लिए अनेको योजनाएं चलाती है वहीं उनकी रिटायरमेंट को लेकर भी सरकार ने एक योजना चलाई हुई है जिसका नाम स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (VRS) है। इस योजना के तहत कोई भी कर्मचारी अपनी मर्जी से नौकरी का कार्यकाल पूरा हुए बिना रिटायरमेंट ले सकता है।आज इस लेख में हम आपको बताएंगे कि VRS लेने के क्या क्या नियम और इसे कैसे लिया जा सकता है? इसके अलावा इस लेख में आपको वीआरएस लेने के फायदे और नुकसान के बारे में भी पता चलेगा।

क्या है VOLUNTARY RETIREMENT SCHEME?

इस योजना के तहत कर्मचारी रिटायरमेंट की तारीख से पहले ही रिटायर हो सकता है। ये योजना प्राइवेट और पब्लिक दोनों सेक्टर की कंपनियों में लागू होता है। कुछ कंपनियां इस योजना को कर्मचारियों की संख्या कम करने के लिए भी लागू करती है।

कौन ले सकता है VRS

स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (VOLUNTARY RETIREMENT SCHEME) के तहत रिटायरमेंट लेने वाले कर्मचारियों के लिए भी नियम बनाए गए हैं। इस योजना का लाभ वो कर्मचारी उठा सकते हैं, जो 40 साल से अधिक के हैं या जो 10 साल की नौकरी कर चुके हैं। वीआरएस योजना का लाभ कंपनियों के सभी अधिकारी और कर्मचारी उठा सकते हैं। लेकिन सहकारी समिति के निदेशक खुद इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते हैं। नए कर्मचारी भी इस योजना का लाभ नहीं उठा सकते हैं।

क्या हैं फायदे और नुकसान?

VOLUNTARY RETIREMENT SCHEME के दौरान कर्मचारयों को पीएफ, ग्रेच्युटी बकाया और कंपनी की पॉलिसी के मुताबिक बकाया रकम मिलती है।वीआरएस के तहत मिलने वाली 5 लाख रुपए तक की रकम टैक्स मुक्त है. जिस साल मुआवजा मिलता है, उस साल इसका दावा किया जा सकता है।एकमुश्त रकम मिलने से कर्मचारी इसका इस्तेमाल दूसरे कामों में कर सकता है। एक तरफ जहां VRS के फायदे है वहीं दुसरी तरफ कुछ नुकसान भी है।वीआरएस लेने से कर्मचारी कई तरह से भत्तों से वंचित रह जाते हैं। उन्हें सैलरी के नियम के मुताबिक इनकम टैक्स की भरपाई करनी पड़ती है।इसके अलावा वीआरएस लेने वाला कर्मचारी सेटलमेंट को चुनौती नहीं दे सकता है। हालांकि वीआरएस लेने के बाद कर्मचारी दूसरी नौकरी भी कर सकता है।अगर आप उसी कंपनी में नौकरी करना चाहते हैं तो वीआरएस लेने के 90 दिन के भीतर अप्लाई करना होगा।

यह भी पढ़ें: Aadhar Card Update – जिन आधार कार्ड वालों ने नहीं माना सरकार का ये नियम, उन पर लगेगा अब इतना जुर्माना, हो जाएं तैयार