Teachers Retirement Age: क्या बढ़ जाएगी शिक्षकों की रिटायरमेंट की उम्र, पाएं इससे जुड़ी सभी जानकारी

Last updated:

Teachers Retirement Age: आमतौर पर किसी जगह काम करने और वहां से रिटायमेंट की उम्र 60 साल निर्धारित की गई है। मगर केंद्र सरकार अब शिक्षकों के रिटायरमेंट की उम्र बढ़ाने पर विचार कर रही है। उच्च शिक्षा में सुधार आयोग ने केंद्रीय विद्यालय के समान यूनिवर्सिटी के शिक्षकों की सेवानिवृत्ति की उम्र 65 वर्ष करने के लिए कहा है। इसके लिए कमेटी बैठाकर सेवानिवृत्ति आयु को 65 साल करने की सिफारिश हुई है। इसके ऊपर जल्द ही शासकीय कर्मचारियों शिक्षकों को लाभ देखने को मिल सकता है।

बढ़ने जा रही है शिक्षकों की रिटायरमेंट की उम्र

श्याम बी मेनन ने राज्य के बाहर के विश्वविद्यालय की कुशल विद्वानों को आकर्षित करने का प्रस्ताव रखा। पहले सरकारी सहायता प्राप्त कॉलेज और यूनिवर्सिटी के शिक्षकों के वेतनमान, सेवा नियम और रिटायरमेंट की उम्र में समानता का भी जिक्र किया। इस कानू में संशोधन करके का प्रस्ताव तैयार किया गया है। आयोग ने बताया कि एक संस्थान दूसरे संस्थान में शिक्षक की आसानी से बातों को सुना जाए।

इसके साथ ही शिक्षकों के कार्यशैली में लचीलापन पाने के लिए नवाचार समूह के गठन को बढ़ावा भी मिल सकेगा। शिक्षकों की रिटायमेंट उम्र को बढ़ाने से कॉलेज के छात्रों को भी फायदा होगा। साल 2021 में तमिलनाडु, कर्नाटक, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश समेत कई राज्यों में शिक्षकों के रिटायमेंट उम्र को बढ़ाने पर फैसला लिया गया।

कुछ दिन पहले ही केरल सरकार ने शिक्षकों की सेवानिवृत्ति उम्र को बढ़ाने की मांग को खारिज कर दिया था। वहीं राज्य ने तर्क दिया कि पीएचडी धारक समेत बड़ी संख्या में योग्य शिक्षक, जो रोजगार की प्रतीक्षा कर रहे हैं उन्हें परेशानी होगी। उच्च शिक्षा सुधार आयोग के मुताबिक, रिटायरमेंट एज को 5 वर्ष बढ़ाया जाना चाहिए। इसके साथ ही पीएचडी वालों के लिए संकाय पदों के अलावा अन्य पदों पर भी भर्ती होनी चाहिए।

इसमें कैडर में अलग 5 सालों में एक नियमित प्रोफेसर, एसोसिएट प्रोफेसर की सैलरी के बराबर एक निश्चित मुआवजा तैयार किया जाना चाहिए। जबकि 50 फीसदी पदों को अभी के शिक्षकों की रिटायरमेंट उम्र को बढ़ाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें: Railway : सीनियर सिटीजन की एक बार फिर आने वाली है मौज, किराए में बहुत जल्द मिलेगी छूट, देखें पूरी जानकारी