comscore
Saturday, February 4, 2023
- विज्ञापन -
Homeशिक्षाPost Office Pin Code के इस्तमाल के पीछे है ये रोचक वजह, जानें कब से हुआ शुरू और कैसे करता है काम?

Post Office Pin Code के इस्तमाल के पीछे है ये रोचक वजह, जानें कब से हुआ शुरू और कैसे करता है काम?

Published Date:

Post Office Pin Code: आज के समय में हम इंटरनेट और सोशल मीडिया की मदद से पल भर में दुनिया के किसी भी कोने में किसी को भी संदेश भेज सकते हैं. लेकिन एक वक्त था जब लोग एक दूसरे को खत लिखते थे.भारतीय पोस्ट की मदद से ये खत एक जगह से दूसरी जगह तक जाया करते थे.

आपको बता दें कि पोस्ट की मदद से चिट्ठी भेजने के लिए पिन कोड की जरूरत होती है. जब हम कहीं अपना पता लिखते हैं तो भी साथ में पिन कोड दिया जाता है. लेकिन क्या आपको पता है कि पिन कोड क्या है, और इसकी शुरूआत कब और कैसे हुई.

50 साल पहले हुई थी शुरूआत

भारतीय पोस्ट में पिन कोड की शुरुआत आज से 50 साल पहले 15 अगस्त 1972 में हुई थी. पिन कोड (PIN) का मतलब पोस्टल इंडेक्स नंबर होता है. इसको शुरू करने वाले एक भारतीय थे, जिनका नाम श्रीराम भीकाजी वेलणकर था.

इन्हें माना जाता है Pin Code का जनक

आपको जानकर हैरानी होगी कि साल 1972 से पहले अगर आप कोई खत भेजते थे, तो उसे पहले पोस्ट ऑफिस में खोलकर पढ़ा जाता था. इसके बाद उसे अलग-अलग खंडों में बांटकर आगे भेजा जाता था. लेकिन ये काम बेहद पेचीदा था. इससे कई बार गलत पते पर खत पहुंच जाते थे. इस परेशानी से मुक्त होने के लिए श्रीराम भीकाजी वेलणकर ने एक सिस्टम इजात किया, जो आज भी प्रासंगिक है. वेलणकर को पिन सिस्टम का जनक माना जाता है.

post office pin code

ऐसे काम करता है Pin Code सिस्टम

श्रीराम भीकाजी वेलणकर ने पिन कोड सिस्टम को बनाने के लिए पूरे देश को 9 जोन में बांट दिया. इनमें से एक जोन भारतीय सेना के लिए भी है. इस सभी जोन को अलग-अलग कोड दिए गए. कोड का पहला अंक उस राज्य को दिखाता है जहां खत भेजना है. उदाहरण के लिए उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड एक ही जोन में हैं, जिनका नंबर 2 है.

यानी इन दोनों राज्यों के सभी स्थानों के पिन की शुरुआत 2 से होगी. इसके बाद पिन कोड का दूसरा अंक सब जोन को दर्शाता है. वहीं तीसरा अंक जिले को दर्शाता है. इसके बाद बचे 3 अंक पोस्ट ऑफिस को बताते हैं. इस तरह 6 अंको के पिन कोड को डिजाइन किया गया है.

राज्यों के पिन कोड

  • दिल्ली-11
  • हरियाणा-12 और 13
  • पंजाब-14 से 16 तक
  • हिमाचल प्रदेश-17
  • जम्मू-कश्मीर-18 से 19 तक
  • उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड-20 से 28 तक
  • राजस्थान-30 से 34 तक
  • गुजरात-36 से 39 तक
  • महाराष्ट्र-40 से 44 तक
  • मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़-45 से 49 तक
  • आंध्र प्रदेश और तेलंगाना-50 से 53 तक
  • कर्नाटक-56 से 59 तक
  • तमिलनाडु-60 से 64 तक
  • केरल-67 से 69 तक
  • पश्चिम बंगाल-70 से 74 तक
  • ओडिशा-75 से 77 तक
  • असम-78
  • पूर्वोत्तर-79
  • बिहार और झारखंड-80 से 85 तक
  • सेना डाक सेवा (एपीएस)-90 से 99 तक

ये भी पढ़ें: TGT PGT और PRT टीचर भर्ती का रिजल्ट जारी, इस लिंक से ऐसे चेक करें अपना परिणाम

Punit Bhardwaj
Punit Bhardwaj
पुनीत भारद्वाज एक उभरते हुए पत्रकार हैं और The Vocal News Hindi में बतौर Sub-Editor कार्यरत हैं। उनकी रुचि बिजनेस,पॉलिटिक्स और खेल जैसे विषयों में हैं और इन विषयों पर वह काफी समय से लिखते आ रहे हैं। उन्होंने अपनी जर्नलिज्म की पढ़ाई AAFT से की है।
- विज्ञापन -

ताजा खबरें

अन्य सम्बंधित खबरें

Maruti Suzuki की इस 7 सीटर कार का सबको इंतजार, Mahindra की बढ़ेगी टेंशन

Maruti Suzuki की कई जबरदस्त कार्स भारतीय मार्केट में...

UPSC Interview Questions: कर रहें हैं परीक्षा की तैयारी तो फटाफट जान लें इन सवालों के जवाब

UPSC Interview Questions: यूपीएससी का एग्जाम क्लियर करके IAS...

Honda Activa Electric जल्द देगी मार्केट में दस्तक, बेहतरीन लुक बना देंगे दीवाना, जानें कीमत

Honda Motorcycle के कई बेहतरीन स्कूटर भारतीय मार्केट में...

Tata Motors की ये है दमदार कार, देखते ही लोग करने लगेंगे तारीफ, जानें कीमत

Tata Motors की कई बेहतरीन गाड़ियां भारतीय मार्केट में...

Hyundai Venue Facelift: धांसू लुक के साथ नए अवतार में लॉन्च हुई नई वेन्यू, जानें कीमत

Hyundai Venue Facelift: Hyundai की कई बेहतरीन गाड़ियां भारतीय...