12 वीं की बोर्ड परीक्षा को लेकर छात्रों में दिखा डर, सीजेआई को पत्र लिखकर की परीक्षा रद्द करने की मांग

image credit: wikimedia

CBSE Board 12 Exam 2021 : कोरोना महामारी के साए में आयोजित होने जा रहे बोर्ड परीक्षा को लेकर छात्रों में खौफ का माहौल पैदा हो गया है. इसी कारण अब छात्रों ने न्यायालय का भी दरवाजा खटखटाना शुरू कर दिया है.

दरअसल, केंद्र सरकार द्वारा 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं के आयोजन की आहट मिलते ही करीब 300 विद्यार्थियों ने मुख्य न्यायाधीश (CJI) जस्टिस एनवी रमना को पत्र भेजकर परीक्षाओं के आयोजन को रद्द करने की सिफारिश कर दी है.

इसके साथ ही पत्र में विद्यार्थियों ने इन परीक्षाओं की जगह सरकार और सीबीएसई को वैकल्पिक मूल्याङ्कन प्रक्रिया तलाश करने की बात कही है. जिसके लिए उन्होंने अपने पत्र में ही सरकार से नई योजना को खोजने का आग्रह किया है.

आपको बता दें कि 25 मई को हुए एक अहम बैठक के बाद 90 फीसदी राज्य, 12 वीं की परीक्षाओं को आयोजित करने के पक्ष में हैं.

बैठक में मांगे गए थे सुझाव

राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई उस बैठक राज्यों से सुझाव मांगे थे. हालाँकि अभी तक किसी भी राज्य ने परीक्षा के आयोजन को लेकर कोई आधिकारिक निर्णय नही किया है लेकिन कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों से लेकर मीडिया संस्थानों की वेबसाइट तक पर सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाओं के आयोजन को लेकर जमकर कयासबाजी जारी है.

परीक्षा से जुड़े कई दावे किए जा रहे हैं

हर जगह यह दावा किया जा रहा है कि सीबीएसई की 12वीं बोर्ड की परीक्षा 15 जुलाई से शुरू होकर 26 अगस्त तक चल सकती है. यहाँ तक की परीक्षा के पैटर्न, अवधि, इत्यादि को लेकर भी अफवाए फ़ैल रही हैं.

कही पर बताया जा रहा है कि सीबीएसई बोर्ड द्वारा परीक्षाओं के परिणाम सितंबर में घोषित हो सकते हैं. कयास यह भी लगे जा रहे है कि परीक्षा तीन घंटे की जगह डेढ़ घंटे की रखी जा सकती है और सिर्फ प्रमुख विषयों को ही परीक्षा में शामिल किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें: यूपी में कक्षा 12 वीं की परीक्षाओं पर निर्णय जल्द, डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा ने दी अहम जानकारी