UP Class 10th Board Exams 2021: सूबे में 10 वीं कक्षा की परीक्षाएं रद्द, इंटर की परीक्षा जुलाई में संभव

UP Class 10th Board Exams 2021: उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद ने शनिवार को एक बड़ा फैसला किया. राज्य में कोविड -19 की स्थिति के मद्देनजर यूपी बोर्ड ने 10 वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाओं को रद्द करने का निर्णय लिया. सूबे के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने इस बात की जानकारी दी. फैसले से कक्षा 10 वीं के छात्रों और अभिभावकों को बड़ी राहत मिली होगी.

वही परीक्षार्थियों के भविष्य में 12वीं के अंकों के महत्व को देखते हुए सरकार ने तय किया कि जुलाई के दूसरे सप्ताह में हालात अनुकूल होने पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए इंटर की परीक्षा कराई जाएगी.

इस अहम निर्णय की घोषणा करते हुए उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने शनिवार को कहा, “इंटरमीडिएट कक्षा 12 की परीक्षा की अवधि तीन घंटे से घटाकर 90 मिनट की जाएगी. छात्रों को 10 के बजाय सिर्फ तीन सवालों के जवाब देने होंगे। ये फैसले छात्रों के व्यापक हित में लिए गए हैं.”

आपको बता दें कि बोर्ड परीक्षा के लिए लगभग 30 लाख अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन किया था. परीक्षा रद्द होने के बाद, अब उन्हें अगली कक्षा में प्रमोट किया जाएगा.

माध्यमिक के शिक्षा मंत्री शर्मा ने आगे कहा कि “अधिकारी अब एक फॉर्मूला तैयार कर रहे हैं जिसके आधार पर इन छात्रों के शैक्षणिक प्रदर्शन का आकलन किया जाएगा और उन्हें उसी के अनुसार अंक दिए जाएंगे.”

वही उप्मुख्यन्त्री ने 12 वीं की परीक्षा को लेकर बताया कि “इंटरमीडिएट की परीक्षा जुलाई के दूसरे सप्ताह में आयोजित की जा सकती है, बशर्ते कि मौजूदा महामारी की स्थिति परीक्षा के सुरक्षित संचालन का रास्ता साफ करे”

बता दें कि इंटर की परीक्षा के लिए लगभग 26 लाख (2.6 मिलियन) उम्मीदवारों ने पंजीकरण किया है.

सीबीएसई और सीआईएससीई ने पहले ही की थी परीक्षा रद्द करने की घोषणा

इससे पहले केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) और काउंसिल फॉर द इंडियन स्कूल सर्टिफिकेट एग्जामिनेशन ने 10वीं कक्षा की परीक्षाएं आयोजित नहीं करने के अपने फैसले की घोषणा की थी. यूपी बोर्ड ने 2020 में महामारी के प्रकोप के बाद पहले ही पाठ्यक्रम में 30% की कमी कर दी थी.

23 मई की बैठक के बाद हुई यूपी में घोषणा

यूपी बोर्ड कक्षा 10 की परीक्षा रद्द करने की घोषणा 23 मई को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय बैठक के बाद हुई. बैठक में सभी राज्यों के शिक्षा मंत्री और सचिव शामिल हुए थे.

इस साल यूपी बोर्ड हाईस्कूल परीक्षा के लिए 16,74,022 लड़के और 13,20,290 लड़कियों समेत 29,94,312 परीक्षार्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था. इसी तरह इंटरमीडिएट परीक्षा के लिए 14,73,771 लड़कों और 11,35,730 लड़कियों सहित 26,09,501 परीक्षार्थियों ने पंजीकरण कराया है.

ये भी पढ़ें: यूपी में कक्षा 9 वीं से लेकर 12 वीं की शिक्षा व्यवस्था में अहम बदलाव, प्रशासन ने लिया बड़ा फैसला