शाहरुख खान की मां संजय गांधी की करीबी थी? सोशल मीडिया पर वायरल इस झूठ कर सच जान लीजिए

सोशल मीडिया पर कुछ लोगों के द्वारा पोस्ट किया जा रहा है कि शाहरुख खान की माँ लतीफ फातिमा दिल्ली में मजिस्ट्रेट थी और संजय गांधी के दौर में कांग्रेस हाई कमांड के करीब थीं। हीरोइन अमृता सिंह की माँ रुखसाना सुल्तान और शाहरुख खान की माँ दिल्ली के प्रभावशाली व्यक्तियों में शुमार थीं. और कांग्रेस पार्टी की करीबी मानी जाती थीं। वह यह भी कह रहे हैं कि शाहरुख प्रिविलेज्ड परिवार से आते हैं।

वरिष्ठ पत्रकार आवेश तिवारी इस विषय पर लिखते हैं कि

शाहरुख खान की मां लतीफ़ फातिमा सोशल मजिस्ट्रेट थी जो बच्चों की जेल में घूम घूम कर उनके मामले देखता है। फातिमा की कमाई से इतने पैसे नहीं आते थे कि घर चल सके तो शाहरुख के पिता मीर ताज मोहम्मद ने राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय में एक रेस्टोरेंट खोल लिया वहां पर चाय और छोले भटूरे बेचा करते थे। शाहरुख की मां दिन में मजिस्ट्रेट की भूमिका में रहती थी और शाम को आकर रेस्टुरेंट चलाती थी।

घर की माली हालत अचानक उस वक्त बेहद खराब हो गई जब शाहरुख के पिता मीर ताज मोहम्मद को कैंसर डायग्नोस हुआ। एक इजेक्शन का दाम 5 हजार हुआ करता था 10 दिन में 23 इंजेक्शन लगने थे। इतना पैसा घर मे नही था।

पति की बीमारी के दौरान फातिमा सुबह निकलती, पहले अपनी नौकरी करती फिर देर रात तकः रेस्टूरेंट संभालती जैसे तैसे इलाज के लिए पैसे का इंतजाम करती। आठ महीने बाद जब शाहरुख के पिता का निधन हुआ उनका परिवार बैंक द्वारा दिवालिया घोषित कर दिया गया।

जहां तक लतीफ फातिमा और कांग्रेस के रिश्ते का सवाल है कांग्रेस पार्टी इंदिरा गांधी संजय गांधी यह लोग तो ऐसे थे उनके पूरा देश प्यार करता था। कौन नहीं जुड़ना चाहता उनसे भाई? श्यामा प्रसाद मुखर्जी से तो कोई नहीं जुड़ सकता था या आडवाणी जी से। गर्व है लतीफ फातिमा पर जो उन्होंने शाहरुख जैसे बेटे को जन्म दिया।

ये भी पढ़ें: जब शाहरुख खान के पिता मानसिंह जैसे गद्दार का रोल निभाने से मना कर दिए थे, आजादी की लड़ाई में भी दे चुके हैं अपना योगदान