मुस्लिम बहुल इलाकों में जनसंख्या नियंत्रण पर जागरूक करेगी ‘पॉपुलेशन आर्मी’: असम सीएम

असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा ने राज्य में आबादी के नियंत्रण को लेकर बड़ा बयान दिया है. बतादें, सोमवार को विधानसभा में मुख्यमंत्री ने कहा कि असम में एक ‘पापुलेशन आर्मी’ या जनसंख्या सेना (Population Army) बनाई जाएगी, जो कि राज्य के मुस्लिम बहुल इलाकों में गर्भनिरोधक वितरित करने और जनसंख्या नियंत्रण के बारे में जागरूकता पैदा करने का काम करेगी. उन्होंने बताया कि एक हजार लोगों की इस मजबूत फोर्स को निचले असम के इलाकों में भेजा जाएगा.

सीएम ने सभा को जानकारी देते हुए बताया, “राज्य के पश्चिमी और उत्तरी हिस्सों में आबादी बढ़ रही है. जनसंख्या नियंत्रण के उपायों के बारे में जागरूकता पहुंचाने और गर्भनिरोधक वितरित करने में चार चपोरी के करीब 1000 युवा शामिल होंगे. हम आशा कार्यकर्ताओं की एक अलग टीम बनाने की तैयारी कर रहे हैं, जिन्हें जन्म नियंत्रण और गर्भनिरोधक वितरण का काम दिया जाएगा.”

उन्होंने कहा, “साल 2001 से लेकर 2011 तक असम में हिंदुओं की जनसंख्या वृद्धि 10 फीसदी थी. वहीं, मुसलमानों के मामले में यह 29 फीसदी थी. कम आबादी के कारण बड़े घरों, वाहनों के चलते असम में हिंदुओं की जीवनशैली बेहतर हुई है. बच्चे डॉक्टर और इंजीनियर बन रहे हैं.”

लड़कियों की शादी की उम्र भी बढ़ाने पर चल रहा विचार

मुख्यमंत्री हिमंता ने कहा कि आबादी को नियंत्रण करने के प्रयासों में कांग्रेस और एआईयूडीएफ को भी साथ देना चाहिए। उन्होंने कहा कि आबादी का विस्फोट ही आर्थिक असमानता की बड़ी वजह है। इसकी वजह से ही असम में मुस्लिम समुदाय के बीच गरीबी है। हम मुस्लिमों के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन हमारी लड़ाई गरीबी से है। इसके साथ ही असम के सीएम ने कहा कि हम लड़कियों के लिए शादी की न्यूनतम उम्र सीमा को भी बढ़ाने पर विचार कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें: Alert! 15 अगस्त से पहले दिल्ली को दहलाने की रची जा रही साजिश, लाल किले की बढ़ी सुरक्षा