कांग्रेस छोड़ जितिन प्रसाद ने थामा बीजेपी का हाथ, बोले- “देश में केवल भाजपा ही राष्ट्रीय दल”

image credits: ANI

कांग्रेसी नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने आज उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका देते हुए बीजेपी का दामन थाम लिया. जितिन को, केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने पार्टी जॉइन करवाई. बीजेपी में शामिल होने से पहले जितिन केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल से मुलाकात करने उनके आवास पहुंचे. यहां से दिल्ली स्थित BJP मुख्यालय के वह दफ्तर पहुंचे और पार्टी जॉइन की.

बता दें कांग्रेस नेता राहुल गाँधी के करीबी रहे जितिन प्रसाद काफी लंबे समय से पार्टी से नाराज चल रहे थे. वो उन 23 नेताओं में भी शामिल थे जिन्होंने सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखी थी. प्रसाद यूपी कांग्रेस में बड़ी जिम्मेदारी चाहते थे लेकिन उन्हें पार्टी में नजरअंदाज किया जा रहा था.

देश में आज केवल भाजपा ही राष्ट्रीय दल: जितिन प्रसाद

भाजपा में शामिल होने के बाद जितिन प्रसाद ने कहा, ‘ मेरा कांग्रेस पार्टी से 3 पीढ़ियों का साथ रहा है. मैंने ये महत्वपूर्ण निर्णय बहुत सोच, विचार और मंथन के बाद लिया है. आज सवाल ये नहीं है कि मैं किस पार्टी को छोड़कर आ रहा हूं बल्कि सवाल ये है कि मैं किस पार्टी में जा रहा हूं और क्यों जा रहा हूं. पिछले 8-10 वर्षों में मैंने महसूस किया है कि अगर कोई एक पार्टी है जो वास्तव में राष्ट्रीय है, तो वह भाजपा है. अन्य दल क्षेत्रीय हैं, लेकिन यह राष्ट्रीय दल है आज देश जिस स्थिति से गुजर रहा है, अगर कोई राजनीतिक दल या नेता देश के हित के लिए खड़ा है, तो वह भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं’

जितिन प्रसाद का सियासी सफर

उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर के रहने वाले जितिन प्रसाद के पिता स्वर्गीय जितेन्द्र प्रसाद कांग्रेस के दिग्गज नेता थे. दिल्ली यूनिवर्सिटी से बीकॉम करने वाले जितिन प्रसाद को कांग्रेस में साल 2001 में युवा कांग्रेस में सचिव पद की जिम्मेदारी दी गई. इसके बाद 2004 के लोकसभा चुनाव में जितिन प्रसाद अपनी गृह सीट शाहजहांपुर से जीतकर लोकसभा पहुंचे. साल 2008 में जितिन प्रसाद भरोसा जताते हुए उन्हें मनमहन सिंह सरकार में केंद्रीय राज्य इस्पात मंत्री की जिम्मेदारी दी गई.

इसके बाद जितिन प्रसाद 2009 के चुनाव में यूपी की धौरहरा सीट से जीतकर लोकसभा पहुंचे. लेकिन इसके बाद 2014 और 2019 के लोकसभा चुनाव में उन्हें करारी हार का सामना करना पड़ा. जितिन प्रसाद उत्तर प्रदेश की धौरहरा सीट पर तीसरे स्थान पर रहे.

ये भी पढ़ें: 17 पायलट्स की कोविड से हुई मौत, फेडरेशन ने फ्रंटलाइन वर्कर्स का माँगा दर्जा