खुशखबरी! सेक्स रेशियों में हुआ सुधार, पुरुषों से ज्यादा हुई महिलाओं की आबादी

Sex Ratio
Image Credits: Pixabay

आज के समय में बढ़ती आबादी को लेकर लोगों में अक्सर चर्चा रहती है कि पुरुषों की संख्या ज्यादा है और महिलाओं की संख्या में कमी आई है लेकिन ऐसा नहीं है. क्योंकि एक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है, जिसमें पता चला है कि पहले के मुताबिक सेक्स रेसियों (Sex Ratio) में सुधार हुआ है. साथ ही पुरुषों की संख्या से ज्यादा महिलाओं की आबादी हो गई है, जो कि सभी महिलाओं और पुरुषों के लिए एक खुशखबरी है.

दरअसल, राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (NFHS-5) के आंकड़ों में गांव और शहर में सेक्स रेसियो निकाला गया है. जिसमें सामने आया है कि शहरों की तुलना में गांवों में सेक्स रेसियो ज्यादा बेहतर हुआ है. सर्वे के मुताबिक गांवों में 1,000 पुरुषों पर 1,037 महिलाएं हैं. इस हिसाब से गांव में महिलाओं की संख्या में इजाफा हुआ है.

इसके अलावा शहरों की बात करें तो यहां पर 1,000 पुरुषों में 985 महिलाएं हैं. जबकि इससे पहले साल (2019-2020) में यह आंकड़ा गांवों में 1,000 पुरुषों पर 1,009 महिलाएं थीं और शहरों में 1,000 के आंकड़ा 956 का था. वहीं साल 2015-16 में ये प्रति 1,000 बच्चों पर 919 बच्चियों का था, जो कि साल 2019-21 में ऊपर जाकर 1,000 बच्चों पर 929 बच्चियों तक पहुंच गया है.

प्रजनन दर में आई गिरावट

आपको बता दें कि राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण-5 के दूसरे चरण के मुताबिक, देश की कुल प्रजनन दर (TFR) या एक महिला द्वारा अपने जीवनकाल में बच्चों को जन्म देने की औसत संख्या 2.2 से नीचे जाकर 2 हो गई है. इसके अलावा कन्ट्रासेप्टिव प्रिवलेंस रेट (Contraceptive Prevalence Rate, CPR) ऊपर जाकर 54 फीसदी की जगह 67 फीसदी पर पहुंच गई है.

दुनिया का सबसे अमीर कुत्ता बेच रहा है अपनी 238 करोड़ की Property | World Richest Dog

ये भी पढ़ें: कब तक दिल्ली की सीमाओं से हट सकते हैं किसान?