लोग बोले, 45 लाख रुपये मिलने पर भी ‘बाबा का ढाबा’ क्यों हुआ बंद! कांता प्रसाद ने बताई वजह

baba ka dhaba
Image Credits: Ani/Twitter

सोशल मीडिया के जरिए अपनी पहचान बनाने वाले कांता प्रसाद (यानि कि बाबा का ढाबा के मालिक) की संघर्ष भरी कहानी में एक नया मोड़ आ गया है. कांता प्रसाद ने काफी समय पहले एक नया रेस्टोरेंट ‘बाबा का ढाबा’ खोला था जो कि उन्होंने अब बंद कर दिया है. अब वह दोबारा से अपने पुराने वाले ढाबे पर आ गए हैं. दरअसल, कांता प्रसाद का कहना है कि रेस्टोरेंट से उन्हें घाटा हो रहा था इसलिए उन्होंने यह बंद कर दिया है.

वहीं लोगों का कहना है कि कांता प्रसाद को 45 लाख रुपये मिले हैं उनका क्या हुआ. क्या कांता प्रसाद ने सार पैसे खर्च कर दिए. इस पर कांता प्रसाद ने बताया कि पांच लाख रुपये उन्होंने रेस्टोरेंट में लगाए थे. इसके अलावा कुछ रुपयों से उन्होंने अपना घर बनवाया था. उन्होंने बताया कि रेस्टोरेंट पर खर्च होने के बाद अब उनके पास 19 लाख रुपये बचे हैं.

कांता प्रसाद को इसलिए बंद करना पड़ा रेस्टोरेंट

सोशल मीडिया पर यूट्यूबर गौरव वासन के वीडियो के बाद से चर्चित हुए बाबा का ढाबा के संचालक कांता प्रसाद ने अपने नए रेस्टोरेंट बंद कर पुराना ढाबा दोबारा चालू कर दिया है. आपको बता दें कि कांता प्रसाद ने दिसंबर, 2020 में अपना नया रेस्टोरेंट खोला था. जो कि शुरुआत में लोगों की काफी भीड़ भी रही. लेकिन फरवरी में कांता प्रासद ने यह रेस्टोरेंट कर दिया.

कांता प्रसाद का कहना है कि रेस्टोरेंट के लिए कुल पांच लाख रुपये लगाकर शुरू किया फिर तीन लोगों को काम पर रखा था. उन्होंने कहा कि रेस्टोरेंट को चलाने का खर्चा लगभग 1 लाख रुपये आ रहा था.जिसमें 35,000 रुपये किराए के देने होते थे. इसके अलावा तीन कर्मचारियों की तनख्वाह 36,000 रुपये देनी होती थी. उन्होंने बताया कि सब कुछ निकालने के बाद पैसे नहीं बचते थे. इसलिए उन्होंने इस रेस्टोरेंट को बंद करने का फैसला लिया है.

ये भी पढ़ेंं: अस्पताल के कर्मचारी ने कोरोना मरीज से बालत्कार का किया प्रयास, रिपोर्ट दर्ज