गोपालगंज के निवासी मनोज तिवारी बनें हरियाणा राज्य परशुराम परिषद के कोषाध्यक्ष

Haryana

नई दिल्ली: राष्ट्रीय परशुराम परिषद , हरियाणा राज्य की प्रथम प्रदेश कार्यकारिणी बैठक का आयोजन मंगलवार को पचकूला के सेक्टर 12-ए स्थित भगवान परशुराम भवन में किया गया। बैठक में परिषद के हरियाणा प्रदेश के कोषाध्यक्ष के रूप में श्री मनोज तिवारी का चयन किया गया। कोषाध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा, ” भगवान श्री विष्णु के छठे अवतार भगवान श्री परशुराम जी ने न केवल बुराई का न केवल नाश किया, बल्कि भगवान शिव की अनन्य भक्ति प्रेरणा तथा शिक्षा से समूचे मानव जाति का कल्याण किया। भगवान परशुराम से बड़ा कोई शिक्षक नहीं हुआ, और ना महान योद्धा। “

बैठक में ब्राह्मण कल्याण बोर्ड और आयोगों को स्थापित करने की आवाज उठाई गई। इसके साथ ही सभी पुजारियों और शक्तिपीठों को सरकार की ओर से वेतन मिलने और आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की मांग की गई।

बैठक में परिषद के हरियाणा प्रदेश के कोषाध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा, “मैं बेहद आभारी हूं कि कोषाध्यक्ष जैसे जिम्मेदारी के पद के लिए मेरा चयन किया गया। पूर्ण निष्ठा के साथ अपने कर्त्तव्य का निर्वाह करूंगा।“

परिषद के संस्थापक संरक्षक तथा मुख्य न्यासी प. श्री सुनील भारद्वाज भराला जी ने कोषाध्यक्ष के पद पर श्री मनोज तिवारी की नियुक्ति के लिए उन्हें बधाई दी। भराला ने कहा, “संगठन को मनोज जी की काबिलियत, योग्यता और प्रतिभा पर पूरा भरोसा है। वह कोषाध्यक्ष के रूप में अपने कार्यों से संगठन को नई ऊंचाइयों पर ले जाएंगे।“

बैठक में वक्ताओं न राजनैतिक, आर्थिक और समाजिक तौर पर ब्राह्माणों को मजबूत बनाने पर अपने विचार रखे। प्रदेश अध्यक्ष सुरेश कौशिक ने कहा कि भगवान श्री परशुराम की जन्मस्थली और कर्मस्थली की खोज करने का संगठन ने संकल्प लिया है। भगवान श्री परशुराम की स्थली पर एक भव्य मंदिर के निर्माण के लिए संगठन काम करेगा।

राष्ट्रीय परशुराम परिषद की हरियाणा प्रदेश की पहली कार्यकारिणी बैठक में पंचकुला की हरियाणा ग्रंथ अकादमी और कुरुक्षेत्र में गीता निकेतन स्थित हरियाणा ग्रंथ अकादमी के निदेशक और उपाध्यक्ष विरेंदर सिंह चौहान उपस्थित थे। उन्होंने परिषद को देश और समाज के हित में बेहतर कार्य करने पर बधाई दी।

ये भी पढ़ें: सावरकर भारत में हीरो क्यों और विलेन क्यों? फिर भारत में यह नाम चर्चा में है

जरूर पढ़े: Mukhtar Ansari: जानिए कहानी उस बाहुबली की जिसके नाम से थर्राता है पूर्वांचल