जल्द बनेगा देश का दूसरा सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे, जानिए इस प्रोजेक्ट में क्या है खास

Delhi-Meerut Expressway
Representative image

भारत में जल्द ही दूसरा सबसे लंबा एक्सप्रेस-वे बनने जा रहा है. खाय बात है कि यह नया गंगा एक्सप्रेस-वे (Ganga ExpressWay) 594 किलोमीटर तक लंबा होगा. इस एक्सप्रेस-वे को लेकर मेरठ में एनएच 334 से शुरू होकर प्रयागराज तक बनने का प्रस्ताव रखा गया है. आपको बता दें कि नए एक्सप्रेस-वे का निर्माण इस साल सितंबर के महीने में शुरू किया जाएगा. इस एक्सप्रेस-वे से लगभग 518 गांव जुड़ेंगे.

उत्तर प्रदेश सरकार ने गंगा एक्सप्रेस-वे को घोषणा कर दी है.एक्सप्रेस-वे के लिए 83 प्रतिशत भूमि अधिग्रहण प्रक्रिया पहले ही पूरी हो चुकी है. बाकी भूमि अधिग्रहण का काम जारी है. यह एक्सप्रेस-वे उत्तर प्रदेश के पश्चिमी हिस्से को राज्य के पूर्वी हिस्से से जोड़ेगा. वहीं राज्य सरकार का कहना है कि वाहन चालकों को केवल विशिष्ट टोल प्लाजा के माध्यम से एक्सप्रेस-वे में प्रवेश करने या बाहर जाने की छूट होगी. इसके अलावा एक्सप्रेस-वे पर दो मुख्य टोल प्लाजा बनाए जाएंगे जो कि मेरठ और प्रयागराज में होंगे.

आपको बता दें कि एक्सप्रेस-वे बन जाने के बाद दिल्ली और प्रयागराज के बीच यात्रा के समय को मौजूदा 10-11 घंटे का सफर तय करने में मात्र सिर्फ 6-7 घंटे ही लगेंगे. यह एक्सप्रेस-वे छह लेन का बनेगा और सभी संरचनाओं का निर्माण आठ लेन की चौड़ाई में किया जाएगा. वहीं इस एक्सप्रेस-वे पर तेज रफ्तार वाहन चलाने के लिए 120 किमी प्रति घंटे निर्धारित की गई है.

इस एक्सप्रेस-वे पर बनाई जाएगी हवाई पट्टी

वहीं खास बात यह है कि इस एक्सप्रेस-वे पर एक हवाई पट्टी भी बनाई जाएगी जिससे कि भारतीय वायु सेना के विमान आपात स्थिति में यहां पर उतर जा सकें. हवाई पट्टी का निर्माण सुल्तानपुर जिले में किया जाएगा. आपको बता दें कि इस परियोजना में 36,000 करोड़ रुपए से ज्यादा लागत होने की उम्मीद है. बताया जा रहा है कि 26 महीनों में इस एक्सप्रेस-वे का निर्माण पूरा होने की उम्मीद है.

ये भी पढ़ें: तीसरी लहर से निपटने के लिए 23,000 करोड़ के पैकेज को मिली मंजूरी