चीन में भी है एक ऐसी ‘द्वारका’ जो पानी के नीच ‘दफन’ है, जानिए 1000 साल पुरानी Lion City का रहस्य

Last updated:

नई दिल्लीः इतिहास गवाह है की दुनिया भर में कई ऐसी पुरानी सभ्यताएं रही हैं जो समय के साथ पानी में समा गयीं और कुछ ने अपनी जड़ों को हिलने तक नहीं दिया। हालांकि पानी की जब ये खूबसूरत दुनिया नजरों के सामने आती है तो आंखों को अलग ही ठंडक देती है। भारत में ऐसा नजारा दिखता है गुजरात के द्वारका नगरी में जिसे भगवान श्रीकृष्ण ने बसाया था। मान्यता है कि कौरवों की माता कुंती के श्राप से श्रीकृष्ण के वंश के साथ उनकी नगरी का भी विनाश हो गया था। खैर ये कथा तो हम सबको पता है लेकिन क्या आपको पता है कि चीन में भी एक खोई हुई सभ्यता के निशान पानी के नीचे आज भी पाए जाते हैं? इस सभ्यता को Lion City के नाम से जाना जाता है।

पानी में समा गया शहर

माना जाता है कि 1950 के दशक में यह शहर पूरी तरह से पानी में समा गया था। तत्कालीन चीनी सरकार ने देश का पहला हाइड्रोपावर प्लांट लगाने के लिए ग्रेट लीप प्रोग्राम के जरिए ऐसा किया था। इस क्षेत्र में लगभग 1000 टापू हैं और Qiandao Lake के साथ वू शी पहाड़ों के पास खूबसूरत नजारा भी दिखता है। लू शानलियांग ने स्मिथसोनियन चैनल की डॉक्युमेंटरी में बताया कि यहां पानी के नीचे अलग ही दुनिया लगती है। उन्होंने कैमरापर्सन वू लिशिन के साथ 3डी तकनीक की मदद से शहर को तैयार किया।

3 डी मॉडल

डॉक्युमेंटरी के मुताबिक यह शहर चीन के सबसे शक्तिशाली शहरों में से एक हुआ करता था और 25-200 एडी में बनने के बाद से सदियों तक काफी प्रभावशाली रहा। साल 2014 में प्रशासन को पता लगा कि शहर एकदम सही-सलामत है। तब पर्यटन के लिए इसे तैयार किया गया और डाइविंग की इजाजत दी गई। लू और वू ने सबसे पहले इसका 3 डी मॉडल दुनिया के सामने रखा है। वू ने बताते है कि डेटा क्लेक्ट करने के लिए एक ही ऑब्जेक्ट के कई चक्कर लगाए गए और अलग- अलग ऐंगल से तस्वीरें ली गईं। उन्होंने इसकी मदद से कुछ बेहतरीन तस्वीरें तैयार कीं जिनमें शेर और दूसरी आकृतियां बनी हुई बनी हुईं हैं।

चीनी वास्तुकला का बेहतरीन नूमना

इस झील में 16वीं सदी की वास्तुकला दिखती है और इसे चीनी वास्तुकला का बेहतरीन नूमना माना जाता है। शहर की दीवारें भी इसी काल की हैं। यह शहर 1368 से 1644 के बीच काफी फलता- फूलता था, उस समय चीन में मिंग साम्राज्य का शासन हुआ करता था। खा जाता है कि इस साम्राज्य में कुल 6 प्रवेश द्वार थे। लेकिन फिर चीन के इतिहास की कहानी बताने वाली ये Lion City 1959 में पानी में समा गयी।

ये भी पढ़े: Bhangarh Fort- इस राजकुमारी की वजह से एक ही साथ हजारों लोगों के घरों में छा गया था मातम, जानिए क्या है इस किले का रहस्य

ये भी देखें: अब सिर्फ 3000 रुपए में आप भी कर सकते है Kedarnath दर्शन