Raksha Bandhan 2022: रक्षाबंधन के दिन खुलते हैं इस अनोखे मंदिर के कपाट, जहां महिलाएं बांधती है भगवान को राखी

Rakshabandhan 2022
Image Credit:- thevocalnewshindi

Raksha Bandhan 2022: राखी का त्यौहार रक्षाबंधन हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है. हर साल यह त्यौहार सावन पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है. इस त्यौहार को लेकर भाई-बहन अधिक उत्साहित रहते हैं. क्योंकि यह त्यौहार विशेषकर भाई बहनों से संबंधित है.

ये भी पढ़े:- इन 5 लोगों के कारण मनाया जाता है राखी का त्योहार

प्यार, समर्पण तथा रक्षा के वचन से जुड़ा रक्षाबंधन का त्यौहार देश भर में लोकप्रिय तथा चर्चित है. हालांकि इस वर्ष रक्षाबंधन के त्यौहार की शुभ तिथि को लेकर काफी असमंजस बना हुआ है. लेकिन इस असमंजस को दूर करते हुए काफी विशेषज्ञों ने 12 अगस्त के दिन रक्षाबंधन का शुभ मुहूर्त बताया है.

क्या आप जानते हैं? कि देवभूमि उत्तराखंड में एक ऐसा मंदिर है जो केवल रक्षाबंधन के त्यौहार के दिन ही खुलता है.

आइए इस मंदिर के विषय में कुछ खास जानकारी प्राप्त करते हैं.

दरअसल, उत्तराखंड का राज्य जहां मंदिरों का बसेरा है. वहां के चमोली जिले में एक मंदिर स्थित है. इस मंदिर का कपाट साल में केवल एक बार खुलता है. यह भगवान बंशी नारायण का मंदिर है. जिसमें भगवान की चतुर्भुज मूर्ति है. रक्षाबंधन के दिन इस इलाके के आसपास की महिलाएं आकर यहां भगवान को राखी बांधती हैं.

यह प्रथाएं काफी पुरानी हैं और बेहद पुराने समय से चली आ रही है. यही कारण है कि यह मंदिर विशेषकर रक्षाबंधन के दिन ही भक्तों के लिए खोला जाता है. इतना ही नहीं रक्षाबंधन के खास अवसर पर यहां भगवान विष्णु की पूजा भी की जाती है तथा साथ ही भंडारे का आयोजन भी किया जाता है. जिसका आनंद कोई भी ले सकता है.