शनि देव महाराज हो सकते हैं आपकी इन बातों से नाराज, तो रहिए सावधान

शनि देव महाराज
credit:- wikimedia.com

किसी भी मनुष्य से शनि देव महाराज के क्रोधित होने का अर्थ है कि उस व्यक्ति के बने हुए सारे काम रुकने लगेंगे। भगवान शनिदेव की साढ़ेसाती का असर बेहद खतरनाक होता है। जब भी किसी पर साढ़ेसाती होती है तो उस व्यक्ति के भाग्य फूट जाते हैं। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार शनि देव महाराज की कुदृष्टि जब किसी पर होती है तो उस व्यक्ति के दिन फिर जाते हैं, उस व्यक्ति के बने हुए सारे काम बिगड़ने लगते हैं।

आइए आज हम आपको बताते हैं शनि जयंती के बारे में, पौराणिक मान्यताओं के अनुसार जेष्ठ माह की अमावस्या को शनि देव महाराज का जन्म हुआ था इस वर्ष शनि जयंती 10 जून 2021 दिन गुरुवार को मनाई जाएगी इस दिन दान पुण्य, श्राद्ध तर्पण, पिंडदान की अमावस्या भी है। इसी दिन सावित्री व्रत भी रखा जाएगा।

ऐसे नाराज हो सकते हैं शनि देव महाराज

शनि देव को पसंद नहीं है जुआ खेलने वाले व्यक्ति, जो भी व्यक्ति जुआ खेलते हैं या सट्टा लगाते हैं उन व्यक्तियों पर सबसे पहले शनि देव महाराज की कुदृष्टि पड़ सकती है। भगवान शनि देव को पसंद नहीं है शराब पीने वाले लोग।

जो भी व्यक्ति ब्याज का धंधा करता है उस व्यक्ति से क्रोधित हो जाते हैं शनि देव। निर्दोष मनुष्य, पशु या पक्षियों को सताना गाय-भैंसों को मारना, सांप कुत्ते और कौआ को सताना बिल्कुल भी नहीं भाता है शनि देव भगवान को। यदि आप इनमें से कोई भी कार्य करते हैं या कर चुके हैं तो उसके लिए आपको शनिदेव महाराज से क्षमा मांगनी चाहिए। ईश्वर के खिलाफ होना या नास्तिक बनकर लोगों में भ्रम फैलाना धन का मजाक उड़ाना देवताओं का अपमान करना भी नहीं है शनि देव को पसंद।

बात बात पर गाली देना, समय पर स्नान ना लेना, दांतो को गंदा रखना ऐसी कई अन्य चीजों से क्रोधित हो जाते हैं शनि देव महाराज। तहखाने की कैद हवा को मुक्त करना, ज्ञान का घमंड करना, लोगों को अपने से नीचे समझना, छुआछूत, ऊंच-नीच मानना भी शनिदेव को नहीं है पसंद।

यही कुछ कारण है जिनके चलते आप के बने हुए काम रुक सकते हैं, या भगवान शनिदेव आपसे क्रोधित हो सकते हैं।

यह भी पढ़ें: आखिर क्यों होता है मृत्यु के बाद गरुड़ पुराण का पाठ