Fengushai के मुताबिक घर में यदि ये वस्तुएं मौजूद हैं, तो उठाना पड़ सकता है भारी नुकसान

Fengushai
Image credit: pexles.com

हिंदू धर्म में शास्त्रों और वास्तु का एक अनोखा महत्व है. इन्हीं वास्तु शास्त्र और Fengushai के मुताबिक हमारे जीवन में सुख दुख आते है. यदि फेंगशुई और शास्त्रों का सही से ध्यान रखे तो हमारे आस पास या हमारे घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है. जिस घर में प्रीत, प्रेम और सहज सामंजस्य के बंधन में बंधें होंगे, उस घर में सुख समृद्धि एवं खुशहाली का सदैव वास होगा. यदि आप फेंगशुई एवं वास्तु से संबन्धित कुछ बातों का ध्यान रखेंगे, तो आपके घर में हमेशा पॉजिटिव एनर्जी बनी रहेगी. चलिए तो आज जानते है Fengushai के कुछ ऐसे ही टिप्स के बारे में जिनके घर में होने से हो सकता है आपको नुकसान.

Fengushai के अनुसार कहां क्या नहीं होना चाहिए

प्रवेश द्वार

किसी भी व्यक्ति को अपने घर के प्रवेश द्वार पर जूते चप्पल की रैक या अखबार की रद्दी की शेल्फ नहीं रखनी चाहिए. इससे घर में नकारत्मक ऊर्जा का आगमन होता है. हमें घर के प्रवेश द्वार पर भगवान की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए जिससे घर में एक सकारात्मक ऊर्जा बनी रहे.

बेडरूम

बेडरुम में ओवल और राउंड शेप के पलंग न रखें. कमरे की दीवारों पर अनावश्यक बहुत सारी पेंटिंग न लगाएं. बेडरूम में बहुत अधिक सामान न रखें. सामान को बिखेर कर रखने से माता लक्ष्मी रुष्ट होती है. सारे बिखरे सामान को समेटकर अलमारी में व्यवस्थित कर रखें. घर के अंदर कहीं भी हिंसा या डरावने दृश्य वाली पेंटिंग या शोपीस न सजाएं. फेंगशुई में तर्क दिया गया है कि, हिंसक पशुओं, भूत प्रेत आदि की पेंटिंग या शोपीस सजाना वर्जित है. इससे मनोवृति में विकार पैदा हो सकते हैं और घर में अशांति का वातावरण पैदा होता है.

बेडरूम में दक्षिणी दिशा की ओर खुलती तिजोरी या पैसे रखने की अलमारी न रखें. यह दिशा पित्रों के लिए सुरक्षित है. इस ओर तिजोरी का मुंह रखने से धन के व्यय की संभावना के साथ घर के सदस्यों को बीमारियां होने की संभावना बढ़ जाती है.

रसोई घर

हमें अपने रसोई घर में काले रंग से परहेज करना चाहिए न ही काले रंग का फर्नीचर रखना चाहिए. घर की रसोई में कभी भी पूजा का मंदिर या स्थान नहीं होना चाहिए. चूल्हे और सिंक के ऊपर भी पूजा का स्थान नहीं होना चाहिए. हमें सिंक में अधिक देर तक झूठे बर्तन नहीं रखने चाहिए.

यह भी पढ़ें: गंगाजल की पवित्रता के पीछे की कहानी