वास्तु के अनुसार इस दिशा में होना चाहिए घर का मंदिर

वास्तु के अनुसार
credit:- wikimediia

वास्तु योजना के अनुसार पूजा कक्ष का डिजाइन किसी भी घर के लिए आवश्यक है क्योंकि वास्तु शास्त्र के अनुसार पूजा कक्ष को डिजाइन करने से सकारात्मक ऊर्जा आकर्षित होती है। सच कहूं तो हमारे ज्योतिषियों के मन में अक्सर कई सवाल आते हैं जैसे, घर में मंदिर कहां रखना चाहिए? भगवान की मूर्तियों का मुख किस दिशा में होना चाहिए? आदि। इसलिए, हमने इस लेख को एक बार और सभी के लिए ऐसे सभी सवालों के जवाब देने का फैसला किया।

हर घर में आज भी पूजा कक्ष सही दिशाओं को ध्यान में रखते हुए अत्यंत सटीकता के साथ बनाया जाता है। हालांकि, संस्कृति में बदलाव और जगह की कमी के कारण, विशेष रूप से महानगरीय शहरों में, लोग कभी-कभी भगवान की मूर्तियों को जहां भी जगह पाते हैं, रखने की कोशिश करते हैं, जो एक गलत आदत है।

जिस तरह घर में बाकी सभी चीजों को वास्तु शास्त्र के अनुसार रखने की जरूरत होती है, उसी तरह पूजा कक्ष के लिए भी एक आदर्श स्थान होता है। और यह ब्लॉग यहां सबसे अच्छा पूजा कक्ष वास्तु युक्तियों का विवरण देगा, जो आपके घर की शांति में वृद्धि करेगा।

वास्तु के अनुसार पूजा कक्ष के लिए सबसे अच्छी दिशा कौन सी है?

  1. घर में पूजा कक्ष के लिए सबसे अच्छी दिशा ईशान कोण है। साथ ही भगवान से प्रार्थना करते समय हमेशा उत्तर या उत्तर पूर्व दिशा की ओर मुंह करना चाहिए। पूजा कक्ष का यह स्थान आपको सकारात्मकता और सही प्रकार के वाइब्स की प्रचुरता प्रदान करने के लिए है।
  2. हालांकि, यदि किसी कारण से उत्तर पूर्व दिशा उपलब्ध नहीं है, तो कोई भी घर की पूर्व या उत्तर दिशा पर विचार कर सकता है।
  3. पूजा कक्ष कभी भी घर की दक्षिण दिशा में नहीं होना चाहिए। यदि आप पूर्व, उत्तर या उत्तर पूर्व दिशा से बाहर हैं, तो पश्चिम को चुनें लेकिन दक्षिण को नहीं।
  4. दक्षिण के अलावा, सुनिश्चित करें कि पूजा कक्ष बेडरूम में, सीढ़ियों के नीचे या बाथरूम की दीवार से सटा हुआ नहीं है। ऐसी स्थिति सकारात्मकता में बाधक हो सकती है।
  5. वास्तु शास्त्र के अनुसार पूजा कक्ष घर के भूतल पर हो तो सबसे अच्छा होगा।
  6. सुनिश्चित करें कि पूजा कक्ष के दरवाजे उत्तर या पूर्व दिशा में खुलते हैं।

यह भी पढ़ें: इन वास्तु टिप्स के अनुसार आपके वैवाहिक जीवन में होगी रोमांस की एंट्री, जानें यहां..