Sawan 2021: शिव भक्तों को इन शाकाहारी पदार्थों का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए

Sawan 2021: शिव भक्तों को इन शाकाहारी पदार्थों का सेवन बिल्कुल नहीं करना चाहिए
Image credit: pixabay

ज्यादातर लोग ऐसा मानते हैं कि श्रावण महीने में सिर्फ मांसाहारी खाद्य पदार्थ को त्यागना होता है और हर प्रकार का शाकाहारी भोजन का सेवन किया जा सकता है। लेकिन आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि कुछ ऐसे शाकाहारी खाद्य पदार्थ भी हैं जिनका सेवन सावन महीने में वर्जित माना गया है।

धार्मिक मान्यताओं के चलते ऐसा माना जाता है कि कुछ शाकाहारी खाद्य पदार्थ ऐसे भी हैं जिनका परहेज इस महीने में अत्यंत आवश्यक है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इन सब चीजों को इस महीने में खाने से अनिष्ट होने की संभावना रहती है। इसके पीछे कई वैज्ञानिक तर्क भी दिए जाते हैं।

आये जानते हैं, कुछ ऐसे ही शाकाहारी पदार्थों के बारे में जिनका सेवन करना सावन में वर्जित माना गया है

हरी पत्तेदार सब्जियां

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन के माह में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन नहीं किया जाना चाहिए। इस तथ्य के पीछे यह तर्क दिया जाता है कि इन दिनों बारिश के कारण सब्जियों में छोटे-छोटे कीड़े लग जाते हैं।

इनका रंग ज्यादातर हरा होता है और इसी वजह से कई बार वो सब्जी के साथ मिल जाते हैं। इसलिए इस समय पत्तेदार सब्जियां खाने से हमारे स्वास्थ्य पर विपरीत असर पड़ने लगता है।

बैंगन

सावन के इस पवित्र महीने में बैगन का सेवन नहीं किया जाना चाहिए, इसे अशुद्ध माना गया है। इसका कारण यह है कि बारिश के दिनों में बैगन में कीड़े सामान्य दिनों की तुलना में अधिक लगते हैं। कुछ लोग तो देवशयनी एकादशी के बाद से ही बैंगन का सेवन बंद करते है।

दूध

दूध का सेवन सावन महीने में अच्छा नहीं माना जाता है। बरसात के दिनों में, विशेषकर श्रावण के महीने में, दूध और दही या दूध से बनी चीजों के सेवन से शरीर में वात की समस्या बढ़ जाती है। इसलिए इस महीने इन चीजों को त्यागकर इसे भगवान को समर्पित कर देना चाहिए। यही कारण है कि सावन के महीने में शिव जी की आराधना दूध अभिषेक द्वारा की जाती है

कढ़ी

सावन में कढ़ी खाने की भी मनाही होती है। इसका कारण यह है कि कढ़ी में दूध से बनी छाछ का प्रयोग तो होता ही है, साथ ही इसमें प्याज का इस्तेमाल भी होता है।

तो इस बार श्रावण में व्रत रखने के साथ-साथ ऊपर बताये गए खाद्य पदार्थों के सेवन से भी बचें और अपने शरीर को स्वस्थ रखें।

यह भी पढ़ें: आखिर क्यों कहा जाता है हनुमान जी को संकटमोचन, जानिये इसके पीछे की अद्भुत कहानी

SHARE