पृथ्वी की तरफ बढ़ रहा खतरा, पावर ग्रिड और रेडियो संचार हो सकता है प्रभावित

Earth Hour day
Representative image

कोरोना महामारी की दूसरी लहर का भारत पर तबाही और बर्बादी मंज़र देखने के बाद हर कोई सकते में था. भारत में कोरोना संक्रमण के चार लाख से भी ज़्यादा मामले हर रोज़ दर्ज किए जा रहे थे.

ऐसे में अब बढ़ते मामलों में विराम लगा है. लेकिन लगता है की मुसीबतें खत्म होने का नाम नहीं ले रही हैं. दर्सल पृथ्वी की तरफ एक बड़ा खतरा बढ़ रहा है.

बता दें कि वैज्ञानिकों के मुताबिक सूर्य की सतह से लाखों टन सुपर हॉट गैसें निकली हैं, जो धरती की तरफ बढ़ रही हैं. इसी के साथ इस घटना को आधिकारिक तौर पर ‘कोरोनल मास इजेक्शन’ के रूप में जाना जाता है.

हो सकता है सबसे बड़े तूफान का खतरा

जानकारी के मुताबिक, सूरज से निकली ये गैसें पृथ्वी को नुकसान पहुंचाने के लिए इतनी शक्तिशाली नहीं हैं. लेकिन ये अब तक के सबसे बड़े और खतरनाक भू-चुंबकीय तूफान या सौर तूफान को पैदा कर सकती हैं. अभी को लोगों को इसका एहसास भी नहीं होगा, लेकिन भविष्य में इसके परिणाम देखने को मिलेंगे.

पावर ग्रिड और रेडियो संचार होंगे प्रभावित

वैज्ञानिकों के अनुसार यह घटना चिंता का विषय इसलिए है कि सालों की निष्क्रियता के बाद सूर्य एकदम से जाग गया है. वैज्ञानिकों का कहना है कि सुपर हॉट गैसें प्रत्यक्ष रूप से किसी के लिए नुकसानदायक नहीं हैं.

लेकिन ये पावर ग्रिड और रेडियो संचार को प्रभावित करेंगी और साथ ही इनमें एयरलाइन कर्मियों और यात्रियों को जहरीले विकिरण के संपर्क में लाने की गंभीर क्षमता है. ये गैसें सैटेलाइट प्रोग्राम पर भी असर डाल सकती हैं.

ये भी पढ़ें: एशिया और अमेरिका ‘सुपर फ्लावर ब्लड मून’ के लिए आसमान की ओर देख रहे हैं