Super massive Blackhole: वैज्ञानिकों ने गैलेक्सी के बीचो बीच कुछ रहस्मयी ढूंढने में पायी सफलता

Super massive Blackhole: वैज्ञानिकों ने गैलेक्सी के बीचो बीच कुछ रहस्मयी ढूंढने में पायी सफलता
Image credit: pixabay

वैज्ञानिकों की एक अंतरराष्ट्रीय टीम ने अभूतपूर्व विस्तार से पास की रेडियो गैलेक्सी , सेंटोरस ए की एक छवि को पकड़ने में कामयाबी हासिल की है। रेडियो तरंगदैर्घ्य पर रेडियो गैलेक्सी बहुत चमकदार होती हैं।

छवियों ने गैलेक्सी के केंद्र में 55 मिलियन सूर्यों के बराबर द्रव्यमान वाले सुपरमैसिव ब्लैक होल के स्थान का खुलासा किया और इसके द्वारा एक विशाल जेट को बाहर निकाला जा रहा था।

सेंटोरस ए जैसी गैलेक्सी के केंद्र में रहने वाले सुपरमैसिव ब्लैक होल गैस और धूल को खिलाते हैं जो उनके विशाल गुरुत्वाकर्षण खिंचाव से आकर्षित हो जाते हैं। इस प्रक्रिया से भारी मात्रा में ऊर्जा निकलती है, जो आकाशगंगा को ‘सक्रिय’ बनाती है और ब्लैक होल के किनारे के करीब पड़ा अधिकांश पदार्थ अंदर गिर जाता है।

हालांकि, आसपास के कुछ कण कब्जा करने से पहले ही बच जाते हैं और अंतरिक्ष में बहुत दूर उड़ जाते हैं। इस तरह जेट गैलेक्सी की सबसे रहस्यमय और ऊर्जावान विशेषताओं में से एक का जन्म होता है।

इवेंट होराइजन टेलीस्कोप (EHT) सहयोग द्वारा कैप्चर की गई छवियां, जिसने 2019 में गैलेक्सी मेसियर 87 में एक ब्लैक होल की पहली छवि को कैप्चर किया, इन जेट्स के गठन के बारे में मौजूदा सिद्धांतों को चुनौती देती है।

रेडियो तरंग दैर्ध्य पर, सेंटोरस ए रात के आकाश में सबसे बड़ी और सबसे चमकीली वस्तुओं में से एक के रूप में उभरता है। 1949 में पहले ज्ञात एक्सट्रैगैलेक्टिक रेडियो स्रोतों में से एक के रूप में पहचाने जाने के बाद, सेंटोरस ए का बड़े पैमाने पर अध्ययन किया गया है।

नई छवियां वैज्ञानिकों को एक दिन में दूरी की प्रकाश यात्रा की तुलना में छोटे पैमाने पर एक एक्सट्रैगैलेक्टिक रेडियो जेट का अध्ययन करने की अनुमति देती हैं।

यह भी पढ़ें: अनजाने में छोटी बच्ची की ढूंढ लिया कुछ ऐसा जिससे NASA भी रह गया हैरान

SHARE