चयनकर्ताओं पर अफरीदी ने उठाए सवाल, कहा- राष्ट्रीय टीम में खेलना किया आसान

image credit: twitter

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के चयन प्रक्रिया पर पूर्व दिग्गज शाहिद अफरीदी (Shahid Afridi) ने सवाल उठाए हैं. पूर्व कप्तान ने राष्ट्रीय चयनकर्ताओं पर निशाना साधते हुए कहा है कि वर्तमान में आसानी से खिलाड़ी राष्ट्रीय टीम में जगह बना लेते हैं. उन्हें घरेलू मैचों का कम अनुभव होने के बावजूद टीम में शामिल कर लिया जाता है. जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए.

एक समारोह के दौरान अफरीदी ने राष्ट्रीय टीम की चयन निति पर सावलिया निशान लगाया हैं. उनके मुताबिक मुल्क के लिए खेलने से पहले खिलाड़ियों को घरेलू क्रिकेट में कुछ सत्र बिताने चाहिए. वहां किए गए प्रदर्शन के आधार पर ही किसी खिलाड़ी को चुना जाना चाहिए.

‘पहले मुल्क के लिए खेलना सर्वोच्च लक्ष्य होता था’

पूर्व पाकिस्तानी ऑलराउंडर ने विशेष रूप से सीमित ओवरों की पाकिस्तान की टीम में खिलाड़ियों को बदलने और पदार्पण कराने की आलोचना की. अफरीदी ने कहा, “आज राष्ट्रीय टीम की ओर से खेलना काफी आसान हो गया है जबकि अतीत में पाकिस्तान टीम की ओर से खेलना किसी भी पेशेवर क्रिकेटर का सर्वोच्च लक्ष्य होता था.”

घरेलू सत्र में किया गया प्रदर्शन मायने नहीं रखता

अफरीदी ने कहा कि “राष्ट्रीय टीम में जगह पाना इतना आसान हो गया है कि घरेलू क्रिकेट में किए गए प्रदर्शन नहीं मायने रखते. बल्कि, वहां से कम अनुभव वाले खिलाड़ियों को भी जल्दबाजी में टीम में जगह दिया जाता है और फिर पर्याप्त मौके दिए बिना ही उसे बाहर भी कर दिया जाता है. ”

दो या तीन साल का अनुभव जरूरी

अफरीदी का मानना है कि राष्ट्रीय टीम में उन्हीं का चयन किया जाए जिनके पास घरेलू क्रिकेट में कम से कम दो या तीन साल खेलने का अनुभव प्राप्त हो.

अफरीदी ने कहा कि “बल्लेबाजों और गेंदबाजों को कम से कम दो से तीन साल का अनुभव देना चाहिए और इसके बाद ही चयनकर्ता उसकी प्रतिभा, धैर्य और दबाव झेलने की क्षमता पर फैसला करें. उसके बाद राष्ट्रीय टीम में चयन करें. “

ये भी पढ़ें: जब मैदान पर की गई एक गलती से टूटे थे कई लोगों के दिल, यहाँ देखें वो चूक जो पड़ी थी काफी महंगी