Brad Hodge’s Statement: कोच्चि टस्कर्स पर अभी भी बकाया है कई खिलाड़ियों की 35% धनराशि

tementBrad Hodge's Sta
Instagram / Brad Hodge

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व बल्लेबाज ब्रैड हॉज ने सोमवार को अपने अनोखे अंदाज में पूछा कि क्या बीसीसीआई (BCCI) उस पैसे का “पता लगाने” की स्थिति में है

जो अब गायब हो चुकी कोच्चि टस्कर्स केरल ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के 2010 संस्करण में उनका प्रतिनिधित्व करने के लिए दिया था.

46 वर्षीय ने KTK के लिए 14 गेम खेले थे, जिसमें 35.63 के औसत से 285 रन बनाए थे.

उन्हें 2010 की सार्वजनिक बिक्री पर कोच्चि टस्कर्स द्वारा 4,25,000 अमरीकी डॉलर में खरीदा गया था.

“खिलाड़ियों पर अभी भी कोच्चि टस्कर्स का प्रतिनिधित्व करने वाले IPL से दस साल पहले अर्जित उनके पैसे का 35% बकाया है। कोई भी मौका @BCCI उस पैसे का पता लगा सकता है ?, ”हॉज ने ट्वीट किया.

हॉज के ट्वीट के मुताबिक, जाहिर तौर पर कोच्चि टस्कर्स पर अभी भी ऑस्ट्रेलियाई डॉलर 127,000 डॉलर से ज्यादा का बकाया है.

हॉज ‘टेलीग्राफ’ में छपी एक रिपोर्ट पर प्रतिक्रिया दे रहे थे कि भारतीय महिला टीम को बीसीसीआई से 5,50,000 अमेरिकी डॉलर की आईसीसी पुरस्कार राशि का हिस्सा नहीं मिल रहा है.

ज्ञात हो कि 2011 में 155.3 करोड़ रुपये की वार्षिक लागत पर चूक करने के लिए कोच्चि टस्कर्स को केवल एक सीजन के बाद निष्कासित कर दिया गया है.

राहुल द्रविड़, एस श्रीसंत और महेला जयवर्धने जैसे खिलाड़ियों ने फ्रेंचाइजी का प्रतिनिधित्व किया था, जिसे 1,550 करोड़ रुपये में खरीदा गया था.

इसने 10-टीम स्पर्धा में आठवां स्थान हासिल किया था.

केटीके ने बैंक को प्रति वर्ष आश्वासन का भुगतान नहीं किया था, जिसके कारण उन्हें लीग से ही समाप्त कर दिया गया था.

जबकि फ्रेंचाइजी के सह-मालिकों में से एक, रेंडीज़वस स्पोर्ट्स वर्ल्ड (Rendezevous sports world) ने बीसीसीआई को बॉम्बे हाई कोर्ट में घसीटा था.

जिसने भारतीय बोर्ड को फ्रैंचाइज़ी को 550 करोड़ रुपये का भुगतान करने का आदेश दिया था.

वहीं 2012 में ऐसी खबरें आई थीं कि समाप्त हो चुकी आईपीएल टीम के लिए खेलने वाले कुछ क्रिकेटरों को उनके वादे के मुताबिक 30 से 40 फीसदी रकम नहीं मिली.

यह भी पढ़े : कोरोना की लड़ाई में बीसीसीआई का बड़ा योगदान, किया ये नेक काम