गर्व: हाथों के बल पर 20 मीटर चलकर अमिरेकी एथलीट ने गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराया नाम

Zion Clark
Image Credits: Zion Clark/Instagram
Last updated:

कहते हैं कि भगवान हर किसी को एक ऐसा टैलेंट देता है लेकिन कौन अपने उस कौशल को समय से पहचान पाता है यह बड़ी बात बात है. आज हम आपको एक ऐसी खबर बताने जा रहे हैं कि जिसे जानकर शायद आप चौंक भी जाएंगे. क्योंकि यह किस्सा है एक अमेरिकी दिव्यांग एथलीट का. जिसने अपने पैर न होते हुए भी हाथों के बल पर 20 मीटर चलकर गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड (Guinness World Record) में नाम दर्ज कराया है. आइए बताते हैं कि इनकी पूरी कहानी…

23 वर्षीय ज़ियोन क्लार्क (Zion Clark) ने 4.78 सेकंड में 20 मीटर चलकर नया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है. ज़ियोन क्लार्क एक मोटिवेशनल स्पीकर, लेखक और उद्दमी हैं. इसके अलावा वह लाखों युवाओं की प्रेरणा का स्रोत भी हैं. ज़ियोन क्लार्क ने अपनी सफलता का श्रेय अपनी मां, दोस्तों और अपने कोच को देते हैं. उनका मानना है कि वह भी उनकी इस सफलता के साथी हैं.

ज़ियोन क्लार्क (Zion Clark) ने अपने इंस्टाग्राम पर एक वीडियो साझा करते हुए लिखा है कि ‘गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड होल्डर बनना कितना अच्छा अहसास है! @गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रेकॉर्ड्स, खासकर हर स्कूल को ध्यान में रखते हुए K-12 इस किताब की एक कॉपी अपने पास रखती चाहिए. जीवन में मेरा लक्ष्य बच्चों को वह बनने के लिए प्रेरित करना है जो वे जीवन में बनना चाहते हैं, किसी को यह न बताएं कि आप क्या नहीं कर सकते! जाओ अपनी प्रति प्राप्त करो’.

ये है ज़ियोन क्लार्क की कहानी

आपको बता दें कि ज़ियोन क्लार्क जन्म से ही बिना पैरों के पैदा हुए थे. यूएस नेशनल लाइब्रेरी ऑफ मेडिसिन के मुताबिक क्लार्क कॉडल रिग्रेशन सिंड्रोम से पीड़ित हैं, जो शरीर के निचले आधे हिस्से के असामान्य विकास की विशेषता वाली एक दुर्लभ बीमारी है, जहां रीढ़ की हड्डियां अक्सर गायब रहती हैं.

हाई स्कूल के दिनों में ज़ियान एक पहलवान थे. क्लार्क दोबारा उसी हाई स्कूल में लौटे और यह कामयाबी हासिल की. फरवरी 2021 में ज़ियान ने रिकॉर्ड तोड़ने का प्रयास कर हाथों पर सबसे तेज 20 मीटर चलकर उन्होंने हॉल ऑफ फेम में प्रवेश किया है. उन्हें इस हफ्ते ग्लोबल ऑर्गनाइजेशन द्वारा आधिकारिक रूप से मान्यता दी गई है.

ये भी पढ़ें: घटती आमदनी और एलपीजी की बढ़ती कीमतों के बाद भी बिहार के इस गाँव में गरीब परिवारों को गोबर के बदले मिल रहा गैस सिलेंडर