इंडिया टुडे के इस पत्रकार ने बीसीसीआई पर लगाया जातिवादी होने का आरोप

IPL Auction
Source-Twitter/IPL

भारत-पाकिस्तान के मैच का मसला सिर्फ हिंदू मुस्लिम और देश विदेश का मसला तक नहीं रह गया। इंडिया टुडे के पूर्व सह संपादक और पत्रकार प्रोफेसर दिलीप मंडल ने बीसीसीआई पर जातिवादी होने का आरोप भी लगाया है।

प्रोफेसर दिलीप मंडल ने फेसबुक पोस्ट करते हुए लिखा कि,क्या BCCI की क्रिकेट टीम में एक भी SC, ST न होने के बावजूद उसे भारतीय क्रिकेट टीम कहा जा सकता है? देश का हर चौथा आदमी SC/ST है। कोई टैलेंट नहीं मिला 34 करोड़ लोगों में। इतनी तो अमेरिका की कुल आबादी है। ऐसा कौन सा रहस्यमय खेल है क्रिकेट कि कुछ जातियों के लोग ही खेल पाते हैं?

इससे पहले भी प्रोफेसर दिलीप मंडल सचिन तेंदुलकर के बेटे अर्जुन तेंदुलकर और अमित शाह के बेटे जय शाह के नियुक्ति पर सवाल उठा चुके हैं।

मैच के शुरुआत में ही भारतीय क्रिकेट टीम की #BlackLivesMatter को पत्रकार साहब नौटंकी करार देते हुए लिखते हैं कि, कोच ने कहा था कि पेट में बदबूदार गैस हो और अंदर हवा के गोले बन रहे हों तो ये करना है। लोगों को लगा कि हम #BlackLivesMatter कर रहे हैं। हम राजपूत बॉय हैं। प्राउड ब्राह्मण है। प्राउड खत्री हैं। अश्वेत डैरेन सैमी को “कालू” बोलते हैं। काहे का ब्लैक लाइव्स मैटर।

आगे वह लिखते हैं कि 700 से ज़्यादा किसान आंदोलन में मर गए। हर दिन दलित, माइनॉरिटी और आदिवासी सवर्णों के हाथों मारे जा रहे हैं। महिलाओं का बलात्कार हो रहा है और ये जोकर दुनिया को दिखाने के लिए #BlackLivesMatter कर रहे हैं। वैसे, ब्लैक लोगों के लिए इनके मन में नफ़रत ही भरी होगी।

ये भी पढ़ें: एक नरसंहार: 90 के दशक में जब बिहार में मुसलमानों की लाशों को गोभी की खेतों में गाड़ दिया गया था