नहीं आई महीनों से सैलरी तो नौकरी छोड़ गए अफगान के राजदूत, जानिए पूरा मामला

Javid Ahmed Kaim

अफगानिस्तान (Afghanistan) में तालिबानी सरकार (Talibani Government) आने के बाद से वहां की आर्थिक व्यवस्था काफी खराब हो गई है. जिसके कारण अब अफगान के राजदूत भी इस संकट से जूझ रहे हैं. राजदूत जाविद अहमद काएम (Javid Ahmed Kaim) को पिछले कई महीनों से सैलरी नहीं मिल रही थी जिसके कारण वह अपने बच्चों की स्कूल फीस भी जमा नहीं कर पा रहे थे. वहीं अब उन्होंने नौकरी छोड़ने का फैसला कर लिया है.

वहीं अफगानिस्तान के राजदूत जाविद अहमद काएम ने ट्वीट कर अपने इस्तीफे का ऐलान कर दिया है. उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा है कि दूतावास के कई राजनयिक पहले ही अपनी नौकरी छोड़ चुके हैं क्योंकि काबुल से अगस्त से बाद से उन्हें सैलरी नहीं मिली है. फिर आगे वह कहते हैं कि ‘कई कारण हैं, निजी और प्रोफेशनल दोनों, लेकिन मैं उन्हें यहां बताना नहीं चाहता’.

इसके बाद उन्होंने बताया कि दूतावास की पांच कारों की चाभियां उन्होंने दफ्तर में छोड़ दी हैं और दो कारों को हटाने की जरूरत है. फिर उन्होंने बताया है कि एक जनवरी तक दूतावास के एक बैंक अकाउंट में 100,000 डॉलर ही बचे थे.

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने मंगलवार को कहा था कि काएम चीन छोड़कर जा चुके हैं. हालांकि यह नहीं पता चला है कि अब वह कहां जाएंगे. आपको बता दें कि तालिबान ने बीते साल 15 अगस्त को अफगानिस्तान को अपने कब्जे में ले लिया था. जिसके बाद से तालिबान अपने अपने नियम लागातार लागू कर रहा है.

Girls Turn Into Boys: 12 साल की उम्र में लड़की से लड़का बन जाती है इस गांव की लड़किया!

ये भी पढ़ें: पीएम के बड़े बोेल, कहा-‘पाकिस्तान सबसे सस्ते देशों में से एक, भारत से अच्छे हैं आर्थिक हालात’