Agni-5: भारत आ रही महामिसाइल के रेंज में है आधी दुनिया, पाकिस्तान और चीन में बौखलाहट

भारत के मिसाइल दुनिया में परमाणु शक्ति संपन्न अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-5 इसलिए भी खास है क्योंकि अग्नि-5 मिसाइल की रेंज में चीन का पूरा शहर आ रहा है।

आइए जानते हैं इस मिसाइल(Agni-V ICBM) की खासियतें:

इस मिसाइल का निर्माण रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) और भारत डायनेमिक्स लिमिटेड (BDL) ने मिलकर किया है। इस मिसाइल के रेंस के बारे में कई देश की कई तरह की राय हैं। चीन सहित कई देश भारत पर आरोप लगाता है कि भारत इस मिसाइल के सही रेंज का पता नहीं बता रही है। डीआरडीओ के अनुसार इस मिसाइल की रेंज 5000 से 8000 किलोमीटर बताई जा रही है।

50 हजार किलोग्राम का यह मिसाइल 17.5 मीटर लंबी है। जबकि इसका व्यास 2 मीटर यानी 6.7 फीट है। एक सेकंड में 8.16 किलोमीटर दूरी तय करने वाला यह मिसाइल 29,401 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से दुश्मन पर हमला करती है।इस मिसाइल में रिंग लेजर गाइरोस्कोप इनर्शियल नेविगेशन सिस्टम, जीपीएस, NavIC सैटेलाइट गाइडेंस सिस्टम लगा हुआ है।

इस मिसाइल की खास बात यह है कि यह एक हथियार के बजाएं कई हथियार लगा सकता है। यानी एक मिसाइल एक साथ कई टारगेट पर निशाना लगा सकता है।

अग्नि-5 अंतरमहाद्वीपीय बैलिस्टिक मिसाइल का पहला सफल परीक्षण 19 अप्रैल 2012 को हुआ था। इसके बाद यह सिलसिला 15 सितंबर 2013, 31 जनवरी 2015, 26 दिसंबर 2016, 18 जनवरी 2018, 3 जून 2018 और 10 दिसंबर 2018 को लगातार हुआ और सफल भी। बार-बार परीक्षण करने का उद्देश्य यह था कि मिसाइल को अलग-अलग मानको पर जांचा जाए.

इस मिसाइल के परीक्षण की बात सुनकर जहां चीन और पाकिस्तान कई तरह की बातें बना रहे हैं वही इंग्लैंड और अमेरिका जैसे देशों ने भारत की तारीफ की है। भारत इस मिसाइल के सफल परीक्षण के बाद चीन, रूस, फ्रांस, अमेरिका, इंग्लैंड और संभवतः इजरायल जैसे देशों की सूची में शामिल हो जाएगा।

ये भी पढ़ें: SFDR Missile Propulsion System: DRDO की बड़ी कामयाबी! SFDR मिसाइल सिस्टम टेस्ट में पास, चुनिंदा देशों में शामिल हुआ भारत