Solar Rooftop Scheme: महज 500 रुपये में लगवाएं घर की छत पर सोलर प्लांट,यहां जाने कैसे करें आवेदन

Solar rooftop scheme
Source- PixaBay

Solar Rooftop Scheme: गर्मी के सीजन में हम सभी लोग कूलर, एसी और फ्रिज का इस्तेमाल करते हैं। इस कारण हर महीने घर का बिजली बिल काफी ज्यादा आता है, जिसका सीधा असर हमारी जेब पर पड़ता है। आज के दौर में जब महंगाई काफी तेजी से बढ़ रही है। ऐसे में अतिरिक्त मात्रा में आने वाला बिजली का बिल एक अलग खर्चा हमारे लिए हो जाता है। इसी कड़ी में आज हम आपको सरकार की एक बड़ी ही खास स्कीम के बारे में बताने जा रहे हैं। इस योजना का नाम सोलर रूफटॉप स्कीम (Solar Rooftop Scheme) है। इस योजना का लाभ लेकर आप अपने घरों में सरकारी सब्सिडी की सहायता से सोलर पैनल लगवा सकते हैं। इस स्कीम के तहत अपने छतों पर सोलर पैनल लगवाने के बाद आपको हर महीने आने वाले बिजली के बिल से पूरी तरह आजादी मिल जाएगी। देश में कई लोग इस स्कीम का लाभ उठा रहे हैं। आइए जानते हैं सोलर रूफटॉप स्कीम के बारे में विस्तार से

क्या है Solar Rooftop Scheme?

सोलर रूफटॉप एक खास तरह की स्कीम है। इसकी शुरुआत भारत सरकार और नवीनीकरण ऊर्जा मंत्रालय ने मिलकर की है। इस योजना के तहत 3KW तक के सोलर रूफटॉप के पैनल को छत पर इंस्टॉल करवाने पर लाभार्थी को 40 प्रतिशत तक सरकारी सब्सिडी मिलती है।वहीं अगर व्यक्ति 3KW से 10KW तक सोलर रूफटॉप को अपनी छत पर लगवाते हैं। ऐसे में आपको सरकार द्वारा 20 प्रतिशत तक सब्सिडी मिलती है।इस सोलर रूफटॉप सब्सिडी योजना में खर्च का भुगतान 5-6 साल में किया जाएगा।इस सोलर पैनल योजना के लिए आपको बिजली वितरण कंपनी के नजदीकी कार्यालय से संपर्क करना होगा।

कैसे करे आवेदन

सबसे पहले आपको Solarrooftop.gov.in पर जाना है।आपको बता दें कि बिजली कंपनियों की वेबसाइट पर उपभोक्ता संख्या डालते ही आवेदन की प्रक्रिया प्रारंभ हो जायेगी। आवश्यक लोड, तस्वीर, पहचान पत्र वबिजली बिल अपलोड कर 500 रुपये आवेदन शुल्क जमा करते ही उनका आवेदन प्रोसेस में आ जायेगा। आगे की प्रक्रिया के लिए उनको बिजली कंपनी में सूचीबद्ध वेंडरों में से किसी एक का चयन करना होगा। फिर एजेंसी के द्वारा स्थल निरीक्षण कर सोलर प्लांट लगाने की मंजूरी दी जायेगी. पूरी प्रक्रिया को वेबसाइट पर ट्रैक किया जा सकेगा।

यह भी पढ़ें- Ration Card: आज ही कर लें ये काम वरना आपकी एक गलती से मुफ्त का राशन हो जाएगा बंद