वैक्सीन लगवाने के बाद सोशल मीडिया पर न डालें सर्टिफिकेट, सरकार ने दी चेतावनी

vaccine certificate
Image Credit: Cyber dost/ Twitter

कोरोना वायरस (Coronavirus) से बचाव के लिए लोग वैक्सीन लगवा रहे हैं. जिसके बाद लोग तस्वीर सोशल मीडिया पर डालकर लोगों को जागरूक कर रहे हैं. साथ ही दूसरे से भी वैक्सीन लगवाने की अपील रहे हैं. लेकिन कई लोग ऐसे हैं जो सरकार द्वारा दिया गया सर्टिफिकेट (Certificate) भी सोशल मीडिया पर डाल रहे हैं. इसको लेकर सरकार ने कहा है कि इस सर्टिफिकेट को सोशल मीडिया पर न अपलोड करें क्योंकि इसमें व्यक्ति की सारी जानकारी लिखी होती है. इसलिए यह सुरक्षित नहीं है.

सरकार ने टीकाकरण प्रमाणपत्र सोशल मीडिया पर पोस्ट करने को लेकर चेतावनी जारी की है जिसमें कहा गया है कि ये व्यक्ति का महत्वपूर्ण डेटा होता हैं जो प्रमाणपत्र धारक के लिए निजी है, और इसे सभी के लिए सार्वजनिक नहीं किया जाना चाहिए.

गृह मंत्रालय (एमएचए) ने अपने साइबर सुरक्षा और साइबर सुरक्षा जागरूकता ट्विटर हैंडल साइबर दोस्त (Cyber Dost) पर एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि लोग सोशल मीडिया पर टीकाकरण के बाद प्रमाणपत्र साझा करने से सावधान रहें. सरकार ने लोगों को समझाते हुए एक तस्वीर बताया है कि सोशल मीडिया पर टीकाकरण का प्रमाणपत्र साझा करना सुरक्षित नहीं है. इसलिए उसे वहां पर शेयर न करें.

हो सकते हैं फर्जीवाड़ा के शिकार

दरअसल, देश भर में इन दिनों कोरोना से बचाव के लिए टीकाकरण चलाया जा रहा है. जिससे कोरोना वायरस की चेन को तोड़ने में मदद मिले. वहीं कई लोग वैक्सीन लगवाने के दौरान सेल्फी लेते हैं जिसके बाद उसे सोशल मीडिया पर डालकर दूसरों को भी वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित करते हैं.

लेकिन वहीं कई लोग ऐसे भी हैं जो टीकाकरण का प्रमाण पत्र भी सोशल मीडिया पर शेयर कर देते हैं. जिसमें व्यक्ति की सारी जानकारी दी होती है. सरकार ने ऐसा करने से मना किया है. क्योंकि इससे व्यक्ति के साथ फर्जीवाड़ा हो सकता है.जिससे उसे नुकसान भी उठाना पड़ सकत हैै. इसलिए सरकार लोगों को आगाह कर रही है.

ये भी पढ़ें: Youtuber ने गुब्बारे के सहारे उड़ाया डॉगी, वीडियो वायरल के बाद हुआ गिरफ़्तार