Health Tips:रिसर्च में दावा 80% बढ़े कैंसर से मौत के मामले, जानें इसके होने का सबसे बड़ा कारण ?

बीएमजे ऑन्कोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन में 204 देशों को शामिल किया गया और 29 प्रकार के कैंसर को शामिल किया गया। इससे पता चला कि सबसे अधिक वृद्धि स्तन कैंसर में देखी गई।
  
 cancer cases

Health Tips: शरीर में छोटा सा भी रोग हो जाए तो जीवन मुश्किल हो जाता है।  यहां हम बात कर रहे हैं   मौत की ग्यारंटी मतलब कैंसर की। दुनिया भर में कैंसर की बीमारी युवाओं को तेजी से अपना शिकार बना रही है। ब्रिटेन में हुई एक स्टडी में दावा किया गया है कि 50 साल से कम उम्र के लोगों में कैंसर बहुत तेजी से बढ़ रहा है और पिछले 30 सालों में कैंसर के केसों में 80 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। यह स्टडी भारत समेत 204 देशों पर 29 प्रकार के कैंसर को कवर करने वाली ग्लोबल बर्डन ऑफ डिजीज की 2019 की रिपोर्ट के आंकड़ों पर आधारित है।

अध्ययन में सामने आए ये तथ्य 

एक बड़े अध्ययन के अनुसार, दुनिया भर में कैंसर से पीड़ित 50 वर्ष से कम आयु के व्यक्तियों की संख्या तीन दशकों की अवधि में लगभग 80 प्रतिशत बढ़ गई है। स्कॉटलैंड में एडिनबर्ग विश्वविद्यालय और चीन के हांगझू में झेजियांग यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ मेडिसिन द्वारा किए गए इस वैश्विक अध्ययन में पाया गया कि 2019 में शुरुआती कैंसर के मामले 1.82 मिलियन से बढ़कर 3.26 मिलियन हो गए। ये वाकई बहुत ही ज्यादा चौंकाने वाला आंकड़ा है, साथ इस रिसर्च ने कई देशों के माथे पर चिंता की शिकन ला दी है। 


स्तन कैंसर से तेजी से बढ़े आंकड़े तो लीवर कैंसर में कमी

दरअसल बीएमजे ऑन्कोलॉजी में प्रकाशित अध्ययन में 204 देशों को शामिल किया गया और 29 प्रकार के कैंसर को शामिल किया गया। इससे पता चला कि सबसे अधिक वृद्धि स्तन कैंसर में देखी गई, जो सबसे बड़ी संख्या में मामलों और संबंधित मौतों के लिए जिम्मेदार है। हालांकि, रिपोर्ट में सुझाव दिया गया है कि प्रारंभिक शुरुआत वाले श्वासनली और प्रोस्टेट कैंसर के मामलों में 1990 और 2019 के बीच सबसे तेज वृद्धि देखी गई। प्रारंभिक शुरुआत वाले लीवर कैंसर के मामलों में 2.88 प्रतिशत की अनुमानित वार्षिक कमी देखी गई। 

कैंसर का सबसे बड़ा कारण क्या?

शोधकर्ताओं ने कहा कि लाल मांस, नमक, शराब और तंबाकू में उच्च और फल और दूध में कम आहार, 50 से कम उम्र के लोगों में कैंसर के मुख्य जोखिम कारक हैं।  निष्क्रिय जीवनशैली, मोटापा, मधुमेह और हाई ब्लड शुगर इसके दोषियों में से हो सकते हैं। अध्ययन के अनुसार, निम्न और मध्यम आय वाले देशों में खराब स्वास्थ्य और मौतों के मामले में, शुरुआत में कैंसर का पुरुषों की तुलना में महिलाओं पर अधिक प्रभाव पड़ता है। स्वस्थ जीवन शैली को प्रोत्साहित करना, पौष्टिक आहार अपनाना, हानिकारक पदार्थों से परहेज करना, उचित शारीरिक गतिविधियों में शामिल होना व बाहर का आनंद लेना, संभावित रूप से शुरुआती कैंसर के बोझ को कम कर सकता है। पिछले तीन दशकों के रुझानों के आधार पर, शोधकर्ताओं ने पाया है कि 2030 तक नए शुरुआती कैंसर के मामलों और संबंधित मौतों की वैश्विक संख्या में क्रमशः 31 प्रतिशत और 21 प्रतिशत की वृद्धि होगी, जिसमें 40 से अधिक उम्र के लोगों को सबसे अधिक खतरा होगा।

Tags

Share this story

Around The Web

अभी अभी