खामोशी से जान लेता है ‘साइलेंट’ हार्ट अटैक, जानें इसके लक्षण

heart attack
Image credits: Pexels

कोरोना वायरस के मरीजों में हार्ट अटैक का खतरा बढ़ता जा रहा है. जी हां जो मरीज कोविड से ठीक हो चुके हैं उन्हे रिकवरी के कुछ ही समय बाद हार्ट अटैक आये है.

वहीं डॉक्टरों का कहना है कि कोरोना वायरस शरीर में प्रवेश करने के बाद सूजन को बढ़ाता है, जिससे दिल की मांसपेशियां कमजोर पड़ने लगती हैं और हार्ट अटैक का खतरा बढ़ जाता है.

लेकिन क्या आप जानते हैं हार्ट अटैक से भी ज्यादा खतरनांक है ‘साइलेंट’ हार्ट अटैक. आइये जामते हैं इसके लक्षण.

बांह में दर्द

सीने में तेज दर्द उठने पर लोग नज़र अंदाज़ कर देते हैं. लेकिन यह ‘साइलेंट’ हार्ट अटैक का पहला लक्षण हो सकता है. जी हां सीने में तेज दर्द होने और धीरे-धीरे पूरे बांह में दर्द फैलना हार्ट अटैक का लक्षण है. हालांकि, कई बार सीने में दर्द न होकर सिर्फ बांह में दर्द होता है. ऐसे में जरूर ही तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें.

पैर या कूल्हे में ऐंठन

यह बाह्य धमनी रोग का एक सामान्य संकेत है, जिसे धमनियों का सिकुड़ना कहा जाता है, जो आपके अंगों, पेट और सिर में रक्त के प्रवाह को सीमित करता है. ऐसा तब होता है जब आपके पैरों से पर्याप्त रूप से रक्त प्रवाह नहीं हो पाता है.

जबड़े में दर्द

अकसर, जबड़े में या गले में ठंड और सेंसिटिविटी के कारण दर्द उठता है. लेकिन अगर सीने के बीच में दर्द हो और बढ़ता हुआ जबड़े तक पहुंच जाए तो यह हार्ट अटैक का लक्षण है. इसे नजर अंदाज़ न करें.

कमजोरी महसूस करना:

अगर आपको अचानक से चक्कर आए या फिर बेहद कमजोरी महसूस हो तो परिवार के किसी सदस्य के साथ डॉक्टर के पास तुरंत जाएं और अपना उपचार कराएं. ये भी ‘साइलेंट’ हार्ट अटैक का लक्षण है.

ये भी पढ़ें: कोविड से रिकवर होने के बाद हार्ट अटैक का खतरा, इन लक्षणों को ना करें नज़रअंदाज़