Space में अंतरराष्‍ट्रीय स्‍पेस स्‍टेशन से टकराया मलबा, बाल-बाल बचे अंतरिक्ष यात्री

Image credit: pixabay

Space में तैर रहा अनगिनत मलबा अब इंसानी मिशन के ल‍िए खतरनाक बनता जा रहा है। कनाडाई स्‍पेस एजेंसी के मुताबिक एक छोटा से मलबे का टुकड़ा स्‍पेस स्‍टेशन की रोबोटिक कॉर्नर से टकरा गया।

Space में खतरनाक तरीके से बढ़ रहें हैं मलबे

Image credit: pixabay

Space में खतरनाक तरीके से बढ़ रहे मलबे का असर अब साफ तौर पर दिखाई देने लगा है, पृथ्‍वी की कक्षा में चक्‍कर लगा रहे अंतरराष्‍ट्रीय अंतरिक्ष स्‍टेशन से एक छोटा सा मलबा टकरा गया, कनाडाई अंतरिक्ष एजेंसी के अनुसार स्‍पेस स्‍टेशन की रोबोटिक कॉर्नर से यह मलबा टकराया, आउटर स्पेस में खतरनाक तरीके से बढ़ रहे मलबे का असर अब साफ तौर पर दिखाई देने लगा है।

स्‍पेस एजेंसी ने अपने ब्‍लॉग पोस्‍ट में बताया कि मलबे के टकराने से रोबोटिक कॉर्नर के एक छोटे से हिस्‍से और थर्मल ब्‍लैंकेट को नुकसान पहुंचा है। 12 मई को सामान्‍य जांच के दौरान पहली बार उन्‍हें घटना के बारे में पता चला। उसने बताया कि जांच के दौरान इस टक्‍कर का कोई खास असर नहीं दिखाई दिया और रोबोटिक कॉर्नर नॉर्मल तरीके से काम कर रहा है।

Image credit: pixabay

स्पेस में यह घटना ऐसे समय पर हुई है जब वहां पर मलबे का स्‍तर बेहद खतरनाक तरीके से बढ़ता जा रहा है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक अंतरिक्ष में मलबे के 27 हजार टुकड़ों पर नजर रखी जा रही है। इतनी निगरानी के बाद भी अभी कई ऐसे टुकड़े अंतरिक्ष में तैर रहे हैं जिनके छोटे होने की वजह से निगरानी रखना काफी मुश्किल है, लेकिन उनसे एस्ट्रोनॉट और रोबोटिक मिशन पर खतरा पैदा हो सकता है।

क्या होता है अंतरिक्ष मलबा

Image credit: pixabay

मलबा और अंतरिक्ष यान दोनों ही बहुत तेज रफ्तार से यात्रा करते हैं और ऐसे में अगर किसी छोटे से टुकड़े से भी टक्‍कर होती है तो परिणाम भयानक हो सकते हैं। अंतरिक्ष मलबा दो प्रकार का होता है। मानव निर्मित और प्राकृतिक मलबा, मानव निर्मित अंतरिक्ष मलबे का मतलब ऐसे टुकड़ों से है जो मानव द्वारा भेजे गए स्पेसक्राफ्टस या सैटेलाइट्स के निष्क्रिय हो जाने के बाद ग्रेविटी के कारण धरती का चक्कर लगाते रहते हैं। वहीं, प्राकृतिक मलबा छुद्रग्रह, धूमकेतु और उल्कापिंड को कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: एलियन की एडवांस्ड टेक्नॉलजी से इंसानो का होगा खात्मा? हारवर्ड के प्रफेसर ने किया का दावा