मंगल पर सम्भावित जीवन को लेकर नासा ने किया शोध, कई गहरे राज आये सामने

Image credit: pixabay.com

नासा की एक टीम के अनुसार, कार्बनिक लवण संभवतः मंगल ग्रह पर मौजूद हैं, और उनकी खोज लाल ग्रह पर पिछले अस्तित्व के संकेत का कारण बन सकती है। ग्रहों के जर्नल जियोफिजिकल रिसर्च की रिपोर्ट के अनुसार, आयरन, कैल्शियम और मैग्नीशियम ऑक्सलेट और एसीटेट्स जैसे कार्बनिक लवण मंगल ग्रह की सतह तलछट में आम हो सकते हैं।

Image credit: pixabay

मैरीलैंड के ग्रीनबेल्ट में नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर में स्थित ऑर्गेनिक जियोकेमिस्ट जेम्स एम टी लुईस ने कहा, अगर हम यह निर्धारित करते हैं कि मंगल ग्रह पर कहीं भी कार्बनिक लवण केंद्रित हैं, तो हम उन क्षेत्रों की आगे की जांच करना चाहते हैं, और आदर्श रूप से सतह के नीचे गहरी ड्रिल करें जहां कार्बनिक पदार्थ को बेहतर ढंग से संरक्षित किया जा सकता है।

जबकि सीधे मंगल ग्रह पर कार्बनिक लवण की पहचान सैम (SAM) जैसे यंत्रो से की जा सकती है,
मैरीलैंड के ग्रीनबेल्ट में नासा के गोडार्ड स्पेस फ्लाइट सेंटर में स्थित ऑर्गेनिक जियोकेमिस्ट जेम्स एम टी लुईस ने कहा, अगर हम यह निर्धारित करते हैं कि मंगल ग्रह पर कहीं भी कार्बनिक लवण केंद्रित हैं, तो हम उन क्षेत्रों की आगे की जांच करना चाहते हैं, और आदर्श रूप से सतह के नीचे गहरी ड्रिल करें जहां कार्बनिक पदार्थ को बेहतर ढंग से संरक्षित किया जा सकता है।

टीम ने कहा कि इस विचार के लिए और अधिक सबूत जोड़ने के अलावा कि मंगल ग्रह पर एक बार कार्बनिक पदार्थ पाया गया था, सीधे कार्बनिक लवण का पता लगाने से भी मंगल ग्रह की रहने की क्षमता का समर्थन होगा, यह देखते हुए कि पृथ्वी पर, कुछ जीव ऊर्जा के लिए ऑक्सलेट्स और एसीटेट्स जैसे कार्बनिक लवण का उपयोग कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: Harvard University के प्रोफेसर ने बताया धरती से इंसानों का विनाश निकट, इंसानों के सामने हैं कई चुनौतियां