IISER भोपाल के वैज्ञानिकों ने प्रोटीन की सटीक इंजीनियरिंग के लिए टेक्नोलॉजी का आविष्कार किया

Research
Image credit: pixabay

यह प्लेटफॉर्म आने वाले वर्षों में सटीक इमेजिंग-निर्देशित ट्यूमर सर्जरी और निर्देशित कैंसर कीमोथेरेपी में कैंसर रोगियों की मदद करेगा।

भारतीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान (आईआईएसईआर) भोपाल के शोधकर्ताओं ने एक नई तकनीक का आविष्कार किया है जो प्रोटीन के विशिष्ट वर्गों में सक्रिय अणुओं को पहुंचा सकती है। आईआईएसईआर भोपाल के वैज्ञानिक पिछले कुछ वर्षों से प्रोटीन अणुओं की ‘इंजीनियरिंग’ पर अध्ययन कर रहे हैं। उन्होंने प्रोटीन की सटीक इंजीनियरिंग के लिए पहला मॉड्यूलर प्लेटफॉर्म तैयार किया है।

Image credit: pixabay

आईआईएसईआर भोपाल में रसायन विज्ञान और जैविक विज्ञान विभाग की शोध टीम में डॉ विशाल राय, डॉ राम कुमार मिश्रा, डॉ संजीव शुक्ला, डॉ श्रीनिवास राव अदुसुमल्ली, डॉ दत्तात्रेय गौतम रावले और डॉ नीतू कालरा शामिल हैं, जिन्होंने इस पर काम किया है। उपन्यास अनुसंधान।

उनके लिंचपिन डायरेक्टेड मॉडिफिकेशन (एलडीएम) प्लेटफॉर्म के विकास को जर्नल ऑफ द अमेरिकन केमिकल सोसाइटी (2018), एंजवेन्टे केमी (अंतर्राष्ट्रीय संस्करण – 2020), और केमिकल साइंस (2021) में प्रकाशित तीन पत्रों में वर्णित किया गया है।

Image credit: pixabay

इस शोध के महत्व के बारे में बताते हुए, डॉ विशाल राय, एसोसिएट प्रोफेसर और स्वर्णजयंती फेलो, रसायन विज्ञान विभाग, आईआईएसईआर भोपाल ने कहा, “हमारी टीम का मानना ​​है कि प्रोटीन की सटीक इंजीनियरिंग के लिए सफल प्लेटफॉर्म प्रोटीन के आणविक और सामाजिक व्यवहार की मूल समझ पर निर्भर करते हैं। “हमारे एलडीएम प्लेटफॉर्म का एक प्रमुख लाभ यह है कि यह देशी प्रोटीन की संरचना या कार्यों को संशोधित नहीं करता है”

प्रमुख शोधकर्ता ने कहा की “एलडीएम प्लेटफॉर्म प्रोटीन इंजीनियरिंग में सटीकता पर अभूतपूर्व नियंत्रण और जीव विज्ञान और चिकित्सा के लिए एक बहुत शक्तिशाली रासायनिक टूलबॉक्स प्रदान करता है”

यह भी पढ़ें: China का “Artificial Sun” प्रायोगिक संलयन रिएक्टर क्या है?