सौर तूफान से पृथ्वी पर खतरे की घंटी, जीपीएस, सेल फोन संकेतों को प्रभावित कर सकता है

Image credit: pixabay

वेबसाइट Spaceweather.com के अनुसार, सूर्य के वायुमंडल से उत्पन्न तूफान का पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र के प्रभुत्व वाले अंतरिक्ष के क्षेत्र पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है।

सौर तूफान के कारण उत्तरी या दक्षिणी ध्रुव पर रहने वाले लोगों के लिए सुंदर आकाशीय प्रकाश का नजारा होगा

16 लाख किलोमीटर की रफ्तार से एक शक्तिशाली सौर तूफान पृथ्वी के पास आ रहा है और यह तूफान रविवार या सोमवार को या तो पृथ्वी से टकराएगा। वेबसाइट Spaceweather.com के अनुसार, सूर्य के वायुमंडल से उत्पन्न तूफान का पृथ्वी के चुंबकीय क्षेत्र के प्रभुत्व वाले अंतरिक्ष के क्षेत्र पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ सकता है।

आकाशीय प्रकाश का दृश्य

सौर तूफान के कारण उत्तरी या दक्षिणी ध्रुव पर रहने वाले लोगों के लिए सुंदर आकाशीय प्रकाश का नजारा होगा। इन क्षेत्रों के करीब रहने वाले लोग रात में सुंदर औरोरा देखने की उम्मीद कर सकते हैं।

1.6 मिलियन की गति Speed

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के मुताबिक, सौर तूफान करीब 16 लाख किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से पृथ्वी की तरफ बढ़ रहा है और शायद इसकी रफ्तार और बढ़ जाएगी। नासा ने कहा कि सोलर स्टॉर्म से सैटेलाइट सिग्नल बाधित हो सकते हैं।

पृथ्वी पर सौर तूफान का प्रभाव

Image credit: pixabay

स्पेसवेदर डॉट कॉम के मुताबिक, सौर तूफानों के कारण पृथ्वी के बाहरी वातावरण को गर्म किया जा सकता है जिसका सीधा असर उपग्रहों पर पड़ सकता है। यह जीपीएस नेविगेशन, मोबाइल फोन सिग्नल और सैटेलाइट टीवी के साथ हस्तक्षेप कर सकता है। बिजली लाइनों में करंट ज्यादा हो सकता है, जिससे ट्रांसफार्मर भी उड़ सकते हैं।

यह भी पढ़ें: अंतरिक्ष में ग़ज़ब संयोग, अगले हफ्ते करीब आएंगे शुक्र, मंगल और चंद्रमा