BCCI ने अपनाया कड़ा रूख, आईपीएल सीजन पूरा नहीं खेलने पर विदेशी खिलाड़ियों की कटेगी सैलरी

image credit: ipl/twitter

IPL 2021: आईपीएल सीजन 14 के शेष मैच सितंबर-अक्तुबर के महीने में UAE में होना निर्धारित है. हालांकि अभी कार्यक्रम घोषित नहीं किया गया है, लेकिन ipl फेज 2 में विदेशी खिलाड़ियों के खेलने की संभावना बहुत कम हैं. इस में सबसे ज्यादा इंग्लैंड, न्यूजीलैंड और कुछ हद तक ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी भी शामिल हो सकते हैं.

आईपीएल में सबसे ज्यादा इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के ही स्टार खिलाड़ी खेलते हैं. ऑल राउंडर बेन स्टोक्स, जोस बटलर, पैट कमिंस, वॉर्नर, केन विलियमसन इनमें प्रबल नाम हैं.

इस बीच भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) ने भी अब सख्त रुख अपना लिया है. बोर्ड के एक अधिकारी ने ‘इनसाइड स्पोर्ट’ को बताया कि यदि कोई विदेशी खिलाड़ी बचे हुए मुकाबले नहीं खेलता है तो उसे प्रो राटा के आधर पर पैसा दिया जाएगा. अधिकारी ने साथ ही कहा कि फ्रेंचाइजी के पास खिलाड़ियों की सैलरी काटने का पूरा अधिकार होगा.

बता दें कि अगर कोई खिलाड़ी पूरा सीजन खेलता है तो फ्रेंचाइजी उसे उसकी सैलरी 3 से 4 किश्तों में देती है. वही पर सीजन बीच में छोड़ने पर खिलाड़ियों को प्रो राटा के आधार पर भुगतान किया जाता है.

ECB नहीं देगा अपने खिलाड़ियों को अनुमति

ज्ञात हो कि इससे पहले ECB के क्रिकेट डायरेक्टर एश्ले जाइल्स ने यह साफ कह दिया है कि इंग्लैंड का कोई भी खिलाड़ी आईपीएल फेज 2 में हिस्सा नहीं लेगा.

जाइल्स ने कहा था कि “हमें अपना शिड्यूल मैनेज करना है, इसलिए हम अपने खिलाड़ियों को वर्ल्ड टी-20 और एशेज के लिए सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में लाना चाहते हैं. आईपीएल के लिए कोई भी खिलाड़ी रिलीज़ नहीं होगा और कोई शिड्यूल नहीं बदला जाएगा.”

BCB भी शकीब और अन्य को नहीं देगा एनओसी

वही बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (BCB) भी यह कह चूका है कि राष्ट्रीय टीम का कोई भी खिलाड़ी आईपीएल में भाग नहीं लेगा. बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड के अध्यक्ष नजमुल हसन पापोन ने कहा, “शाकिब अल हसन के पास शेष आईपीएल मैच खेलने का कोई मौका नहीं है क्योंकि इंग्लैंड उस समय एक सीरीज के लिए बांग्लादेश का दौरा करेगा, उन्हें एनओसी नहीं दी जाएगी.”

कमिंस भी नहीं खेलेंगे

उधर ऑस्ट्रेलिया और KKR के प्रीमियम तेज गेंदबाज पैट कमिंस भी आईपीएल के शेष मैच नहीं खेलेंगे. हालाँकि उन्होंने आईपीएल फेज 2 से नाम वापस लेने का कोई प्रमुख कारण नहीं दिया है. कोलकाता ने उन्हें 15.5 करोड़ रुपये में ख़रीदा था.