Tokyo Olympics: इंडियन हॉकी में वंदना का बड़ा कारनामा, 37 साल बाद ओलंपिक में हैट्रिक गोल दागने वाली बनीं पहली भारतीय

tokyo olympics
image credit: twitter

Tokyo Olympics: भारत की महिला हॉकी टीम ने टोक्यो ओलम्पिक के क्वार्टर फाइनल में जाने की उम्मीदें बरकरार रखी हैं. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपने आखिरी लीग मैच में महिला हॉकी टीम ने 4-3 से जीत अर्जित की. इस जीत में भारत की वंदना कटारिया ने इतिहास रचा है. उन्होंने आखिरी मुकाबले में तीन गोल दागकर भारत की जीत में अहम योगदान दिया. इसी के साथ वह ओलंपिक इतिहास में की में हैट्रिक गोल करने वाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी बनी हैं.

बता दें कि इससे पहले 1984 में पुरुष हॉकी टीम से विनीत शर्मा ने गोलों की हैट्रिक लगाई थी. मलेशिया के खिलाफ उस मैच में भारत ने 3-1 से जीत दर्ज की थी. और विनीत जीत के हीरो बने थे. यानी कि वंदना 37 साल बाद ओलंपिक में हॉकी में हैट्रिक गोल दागने वाली पहली भारतीय खिलाड़ी भी बनीं.

भारत ने वंदना के शानदार खेल के दम पर ग्रुप A का आखिरी मुकाबला अपने नाम किया. दक्षिण अफ्रीका को 4 -3 से शिकस्त देकर भारतीय महिलाओं ने क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की उम्मीदें जिंदा रखीं. यह महिला टीम की दूसरी जीत है और फ़िलहाल वह ग्रुप चरण में चौथे स्थान पर है.

क्वार्टर फाइनल में पहुँचने का समीकरण

हालाँकि, क्वार्टर फाइनल में स्थान पक्की करने के लिए भारत को ग्रुप A में आयरलैंड और ग्रेट ब्रिटेन के मैच पर निर्भर रहना होगा. मौजूदा अंक तालिका के अनुसार भारत सभी मुकाबले खेलकर चौथे, ब्रिटेन चार मैच खेलकर तीसरे और आयरलैंड पांचवें स्थान पर हैं.

अब ग्रेट ब्रिटेन और आयरलैंड की टीमें अपना आखिरी लीग मुकाबला एक-दूसरे के खिलाफ खेलेंगी. यदि ब्रिटेन ने यह मैच जीता या ड्रा किया, तब भारत क्वार्टर फाइनल में पहुंचेगा. लेकिन, आयरलैंड की जीत से टीम इंडिया का टोक्यो ओलम्पिक में सफ़र समाप्त हो जाएगा.

ये भी पढ़ें: Tokyo Olympics – कमलप्रीत कौर ने दिखाया दम, 64 मीटर के स्कोर के साथ डिस्कस थ्रो के फाइनल में पहुंची

SHARE