IPL के 14 साल के इतिहास में जो नहीं हुआ, किस खिलाड़ी के तीन गेंदों में कर डाला

जीतने का असली मतलब वही जानता है जो हारा हो। यह शायरी आइपीएल के तेज गेंदबाज सुनील नरेन के लिए अभी के वक्त परफैक्ट है।

आपको याद है डिफेंडिंग चैंपियन वेस्ट इंडीज़ ने T20 वर्ल्ड कप के लिए अपनी टीम अनाउंस की। इसमें एक खिलाड़ी को छोड़ दिया जो गेंद और बल्ले दोनों में किसी से भी कभी भी मैच पलट सकता था। कुछ लोग इस फैसले से खुश थे तो कुछ दुखी।

आलोचकों का कहना था कि सही हुआ जो उसे बाहर किया गया। ऐसे लोग उसकी हालिया फॉर्म के बहाने उसको मौका ना देने की बात कर रहे थे। यह खिलाड़ी थे ऑलराउंडर सुनील नरेन।

11 अक्टूबर, 2021 को सुनील नरेन ने आलोचकों को चुप करा दिया अपने प्रदर्शन से। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ हुए IPL 2021 के एलिमिनेटर में नरेन ने अकेले दम पर कोलकाता नाइट राइडर्स को जीत दिला दी।

मैच में कोहली के अलावा RCB का कोई भी बल्लेबाज सही से नहीं खेल पाया। और इसका वजह था सुनील नरेन।

दसवें ओवर में पहली बार बोलिंग पर आए नरेन ने सबसे पहले तो पिछले मैच के हीरो श्रीकर भरत को आउट किया। फिर वें कटेश अय्यर के कैच पकड़ उनकी छोटी सी पारी का अंत किया। और फिर अगले ही ओवर में कैप्टन कोहली को भी चलता कर दिया।

ओवर की दूसरी गेंद में डी विलियर्स की गिल्लियां उड़ गई सिर्फ 11 रन के स्कोर पर। नरेन का कहर यहीं नहीं रुका।
अपने चौथे ओवर में उन्होंने RCB का किला पूरी तरह ध्वस्त कर कोहली के खेमे को एकदम शांत कर दिया।
नरेन ने अपने चार ओवर्स में सिर्फ 21 रन देकर चार बड़े विकेट झटके।

ये भी पढ़ें: टी-20 वर्ल्डकप: छह गेंदों में छह छक्कों से लेकर पांच विकटों तक, ये हैं टी-20 वर्ल्डकप के यादगार लम्हें