मैंगो डिप्लोमेसी: बांग्लादेशी पीएम ने पीएम मोदी सहित सीएम ममता को भेजे 2600 किलो आम

image credits: ANI

राजनीतिक गलियारों में एक बार फिर गर्मियों के मौसम में फलों का राजा आम डिप्लोमेसी के तहत उपयोग में चर्चाओं में शुमार हो चुका है. बतादें, बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने रविवार को अपने भारतीय समकक्ष नरेंद्र मोदी और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के लिए उपहार के रूप में 2600 किलोग्राम आम भेजा है जो कि एक बार फिर दोनों देशों की राजनीती में मिठास लाने का प्रयास माना जा रहा है.

रंपुर क्षेत्र में पैदा होने वाले हरिभंगा वरायटी के ये आम बेनापोल चेकपॉइंट से होते हुए सीमा पार लाए गए. रविवार दोपहर बांग्लादेश से ये ट्रक 260 डब्बों में ये आम लेकर आए. इस दौरान सीमा पर बांग्लादेश के कई अधिकारी मौजूद थे. बेनापोल कस्टम्स हाउस के डेप्युटी कमिश्नर अनुपम चकना ने बांग्लादेश की मीडिया से कहा कि आम दोनों देशों के बीच सौहार्द्र के प्रतीक हैं। आम के सीमापार करते वक्त बांग्लादेश के कई अधिकारी मौके पर मौजूद रहे.

बेहद खास है हरिभंगा

हरिभंगा वरायटी के आम ने रंगपुर की अर्थव्यवस्था ही बदल दी है. 30 हजार से ज्यादा लोग इससे जुड़े हैं। जून के आखिर में इस फाइबरलेस आम की कटाई शुरू होती है. सीजन की शुरुआत में इनका दाम 60 से 80 टके प्रतिकिलो तक होता है जो जुलाई के आखिर तक 300-500 टके प्रतिकिलो तक पहुंच जाता है. इनका सालाना व्यापार कई सौ करोड़ टके में होता है. हालांकि, कोरोना वायरस की महामारी के चलते व्यापार पर भी बुरा असर पड़ा है.

राजनीति का हिस्सा रहा है मैंगो डिप्लोमेसी

पिछले साल, बांग्लादेश ने अपने व्यापारियों को दुर्गा पूजा के अवसर पर लगभग 1,500 टन हिल्सा मछली निर्यात करने की विशेष अनुमति दी थी, जो सीमा के दोनों तरफ के लोगों की पसंदीदा है. जहां तक बात मैंगो डिप्लोमेसी की है तो यह उपमहाद्वीप की राजनीति का हिस्सा है, लेकिन भारत और पाकिस्तान के बीच यह आम बात रही है. पूर्व तानाशाह जिया-उल-हक और परवेज मुशर्रफ और पूर्व गृह मंत्री रहमान मलिक उन पाकिस्तानी नेताओं में शामिल हैं, जिन्होंने भारतीय नेतृत्व को आम तोहफे के रूप में भेजा था.

ममता ने भेजे आम

इससे पहले यह ‘मैंगो डिप्लोमेसी’ चर्चा में तब आई जब ममता बनर्जी ने आम की किस्में- हिमसागर, मालदा और लक्ष्मणभोग पीएम मोदी को भेजीं. इसके अलावा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और गृहमंत्री अमित शाह को भी आम भेजे गए. ममता ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल को भी आम की पेटियां भेजीं.

ये भी पढ़ें: युवक ने DMRC से पूछा- Cold Drink में शराब मिलाकर ले जा सकते हैं मेट्रो के अंदर? मिला यह जवाब