मलेशिया में कुत्तों से कोरोना फैलने का मामला आया सामने, जानें लक्षण

image credits: Unsplash

कोरोना का कहर पूरी दुनिया में लगातार जारी है. इस बीच मलेशिया में वैज्ञानिकों ने एक नए कोरोना वायरस का पता लगाया है. माना जा रहा है कि यह कोरोना वायरस कुत्‍तों से पैदा हुआ और इसकी चपेट में कई साल पहले कुछ लोग भी आए थे. वैज्ञानिकों का कहना है कि अगर इसकी पुष्टि हो जाती है तो यह पशुओं से इंसानों में आया आठवां वायरस होगा. साथ ही इंसान के सबसे अच्‍छे दोस्‍त कहे जाने वाले कुत्‍ते से आया पहला वायरस होगा.

वर्ष 2017 और 2018 में निमोनिया जैसे लक्षण देखे गए

पिछले करीब 20 साल से वायरसों पर काम करने वाले महामारी विशेषज्ञ डॉक्‍टर ग्रेगरी ग्रे ने अपने एक छात्र को कोरोना वायरस के मौजूदा जांच से इतर एक शक्तिशाली टेस्टिंग टूल बनाने का जिम्‍मा सौंपा. ग्रेगरी और उनके स्‍टूडेंट ने मिलकर एक ऐसे टूल का निर्माण किया जो अन्‍य कोरोना वायरस के साक्ष्‍य की तलाश कर सकता है. इस टूल की मदद से जब पिछले साल कई नमूनों की जांच की गई तो कुत्‍तों से संभावित लिंक का खुलासा हुआ. ये नमूने मलेशिया के सारवेक स्थित एक अस्‍पताल के मरीजों के थे. इन लोगों को वर्ष 2017 और 2018 में निमोनिया जैसे लक्षण देखे गए थे.

हैरानी वाली बात सामने निकलकर आई इन मरीजों में ज्‍यादातर बच्‍चे हैं. ग्रेगरी की टीम ने नए टूल का प्रयोग करते हुए 301 में से 8 नमूने ऐसे थे जो कुत्‍ते से आए कोरोना वायरस से संक्रमित थे. ग्रेगरी ने कहा कि यह मरीजों के अंदर कोरोना वायरस की बहुत अधिक मात्रा है. उन्‍होंने कहा कि यह नतीजे बहुत‍ उल्‍लेखनीय हैं. इस दल ने अपने नतीजों की पुष्टि के लिए अमेरिका के ओहियो स्‍टेट यूनिवर्सिटी की चर्चित वायरोलॉजिस्‍ट अनस्‍तसिया व्‍लासोवा के पास भेजा.

‘जीनोम का ज्‍यादातर हिस्‍सा कुत्‍ते का कोरोना वायरस’

अनस्‍तसिया ने कहा कि कुत्‍ते से कोरोना वायरस के इंसानों के अंदर जाने के बारे में पहले कभी सोचा नहीं गया था. इस तरह का पहले कभी कोई मामला भी सामने नहीं आया था. हालांकि जब अनस्‍तसिया ने कोरोना वायरस के जीनोम की जांच की तो उन्‍हें ग्रेगरी की टीम के शोध से सहमत होना पड़ा. उन्‍होंने कहा कि जीनोम का ज्‍यादातर हिस्‍सा कुत्‍ते का कोरोना वायरस है.

ग्रेगरी ने बताया कि मलेशिया में कुत्‍ते से फैले कोरोना वायरस के सभी मरीज ठीक हो गए हैं और इंसान से इंसान में संक्रमण का कोई भी मामला सामने नहीं आया है. इस तरह कुत्‍ते से आए कोरोना वायरस से महामारी फैलने का कोई खतरा नहीं है.

ये भी पढ़ें: चीन की वुहान लैब से फैला कोरोना! अमेरिका की नई रिपोर्ट में दावा