हिंदुओं पर हमलों के बाद बांग्लादेश सरकार बनाने जा रही यह क़ानून

बांग्लादेश में अल्पसंख्यक समुदाय यानी हिंदुओं के साथ कट्टरपंथी ग्रुप ने हिंसा की घटना को अंजाम दिया है। इसके बाद भारत में एक बार फिर से सीएए को लेकर बहसबाजी शुरु हो गई है।

बांग्लादेश में पिछले दिनों दुर्गा पूजा के दौरान सांप्रदायिक हिंसा की घटनाएं हुई थीं जिनमें अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों को निशाना बनाया गया था। अब बांग्लादेश सरकार एक नए कानून को बनाने जा रही है।

बांग्लादेश के क़ानून मंत्री अनीसुल हक़ बीबीसी को दिए एक इंटरव्यू में बताते है कि गवाहों के अभाव के कारण अल्पसंख्यकों पर हमलों के मामलों में सुनवाई की प्रक्रिया प्राय: लंबी होती है और कभी-कभी इन पर कोई फ़ैसला भी नहीं हो पाता है।

इसको मद्दे नजर रखते हुए बांग्लादेश सरकार गवाह संरक्षण क़ानून बनाने जा रही है। इस कानून के जरिए गवाहों की सुरक्षा सुनिश्चित की जाएगी। जल्दी यह कानून संसद में पारित हो जाएगा। अल्पसंख्यक समुदायों पर हमलों के मामलों की सुनवाई के लिए सरकार ने अल्पसंख्यक संरक्षण अधिनियम का मसौदा तैयार कर लिया गया है।

ये भी पढ़ें: 26 अक्टूबर 1947: आज ही के दिन कश्मीर का भारत में विलय हुआ था, क्यों कभी पूरा क्यों नहीं हो सका ये विलय?