8200 फुट ऊंचाई पर कार बन गई एयरक्राफ्ट, जानें फ्लाइंग कार की खूबियां

Image credit: pixabay

Klein Vision की Flying Car ने स्‍लोवाकिया में दो शहरों के बीच परीक्षण उड़ान को सफलता से पूरा किया। ये फ्लाइंग कार 2.15 मिनट में कार से एयरक्राफ्ट बनकर उड़ने लगती है, वहीं,ये सड़क पर भी चलने में सक्षम है।

हवा और जमीन में चलने वाली एयरकार ने स्‍लोवाकिया के दो अंतरराष्‍ट्रीय हवाईअड्डों नाइट्रा और ब्रातिस्‍लावा के बीच 35 मिनट की सफल परीक्षण उड़ान भरी। यह एयरकार बनाने वाली कंपनी Klein Vision ने बताया कि लैंड होने के बाद सिर्फ एक बटन दबाने के 3 मिनट के भीतर ये एयरक्राफ्ट स्‍पोर्ट्स कार में तब्‍दील हो गया, परीक्षण के दौरान एयरकार को इसके इनवेंटर प्रोफेसर स्‍टीफन क्‍लेन ने उड़ाया। कंपनी के मुताबिक, इस कार ने दोनों एयरपोर्ट के बीच की दूरी को आधे से कम समय में तय कर लिया।

क्‍लेन विजन के संस्‍थापक व सीईओ स्‍टीफन क्‍लेन ने एयरपोर्ट पर लैंडिंग के बाद इसे सामान्‍य कार की तरह भी दौड़ाया। क्‍लेन विजन की ये हाइब्रिड कार-एयरक्राफ्ट, एयरकार, बीएमडब्ल्यू इंजन से लैस है और नियमित पेट्रोल-पंप ईंधन पर चलती है। इस कार को एयरक्राफ्ट बनने में 2 मिनट और उसके बाद उड़ान भरने में 15 सेकेंड लगते हैं. पेट्रोल इंजन से चलने वाली एयरकार 190 किमी प्रति घंटे की रफ्तार पकड़ सकती है। कंपनी के मुताबिक, ये हाइब्रिड फ्लाइंग कार फिक्स्ड-प्रोपेलर सिस्टम के साथ 8,200 फीट ऊंचाई पर 1000 किमी दूरी तय कर सकती है।

140 टेस्‍ट फ्लाइट के दौरान हवा में बिता चुकी है 40 घंटे

Imager credit: pixabay

क्लेन का अगला लक्ष्य सिंगल फ्यूल टैंक टॉप-अप पर इसकी रफ्तार को 300 किमी प्रति घंटे और एक बार में टैंक फुल होने के बाद 1,000 किमी का हवाई सफर तय कर सकती है।

यह कार अब तक 140 से ज्‍यादा टेस्‍ट फ्लाइट के दौरान कुल 40 घंटे हवा में बिता चुकी है, अब यह कार 45 डिग्री का तीव्र मोड़ लेने में भी सक्षम हो गई है, बता दें कि दोनों इंटरनेशनल एयरपोर्ट्स के बीच टेस्‍ट फ्लाइट के दौरान कार ने 170 किमी प्रति घंटा की रफ्तार पकड़ी थी। कंपनी ने कहना है कि इस कार ने साइंस फिक्‍शन को हकीकत में तब्‍दील कर दिया है। ये कॉन्‍सेप्‍ट कार के भविष्‍य का जीता-जागता नमूना है।

स्‍टीफन क्‍लेन ने कहा, वाहनों का नया दौर होगा शुरू

ब्रातिस्‍लावा पर एयरकार के कॉकपिट से निकलने के बाद स्‍टीफन क्‍लेन ने कहा कि इस उड़ान के साथ जमीन और हवा में उड़ने वाले वाहनों का नया दौर शुरू हो गया है। इसने ट्रांसपोर्टेशन की नई कैटेगरी को खोल दिया है। उन्‍होंने परीक्षण उड़ान के अनुभव को सामान्य और सुखद बताया। साथ ही कहा कि इसमें 200 किग्रा की संयुक्त वजन सीमा के साथ दो लोग सवार हो सकते हैं। उन्‍होंने बताया कि एयरकार प्रोटोटाइप-2 में 300hp का इंजन लगाया जाएगा। इसे एम-1 रोड परमिट के साथ ईएएसए सीएस-23 एयरक्राफ्ट सर्टिफिकेट मिल गया है।

यह भी पढ़ें: इंदौर में एशिया का सबसे लंबा हाई-स्पीड टेस्ट ट्रैक शुरू हुआ, 300 किलोमीटर प्रति घन्टे की रफ्तार से दौड़ेगी गाड़ियां