Bureau of Indian Standards: क्या है भारत मानक ब्यूरो? ISI मार्क क्यों है जरूरी? यहां पाएं पूरी जानकारी

Bureau of Indian Standards: जब भी हम कोई सामान लेते हैं तो उसपर ISI मार्क देखते हैं। ये मार्क हमें बताता है कि इस प्रोडक्ट हम भरोसा कर सकते हैं। मगर ये मार्क किस कंपनी के तहत लगाया जाता है इसके बारे में आपको डिटेल जाननी चाहिए। भारत मानक ब्यूरो (BIS) के लिए आवेदन कहां करते हैं इसकी जानकारी भी होनी चाहिए। भारत सरकार की एक स्कीम के तहत करीब 900 प्रोडक्ट्स के लिए 26500 लाइसेंस जारी हुए हैं। भारतीय मानक ब्यूरो (Bureau of Indian Standards) की प्रोडक्ट सर्टिफिकेशन क्यों जरूरी है ये डिटेल जानकर ही इसकी प्रक्रिया आगे बढ़ानी चाहिए।

क्या है भारत मानक ब्यूरो?

ब्यूरो ऑफ इंडियन स्टैंडर्स (Bureau of Indian Standards) किसी भी प्रोडक्ट की गुणवत्ता, सुरक्षा और विश्वास को प्रमाणित करने का काम करता है। बीआईएस सर्टिफिकेट पाने वाली कंपनियां अपने प्रोडक्ट्स पर ISI का मार्क लगाती है। इस मार्क को लगाकर ही उन्हें अपना प्रडोक्ट बेचने का अधिकार होता है। आम जन सेहत और सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए भारत सरकार की तरफ से ये नीति लागू की गई है। भारतीय मानक ब्यूरो के तहत अनिवार्य पंजीकरण योजना (BIS Compulsory Registration Scheme) लागू हुई है। इस स्कीम के तहत करीब 25 से 25 श्रेणियों में आने वाले लगभग 380 उत्पादों के लिए बीआईएस सर्टिफिकेशन जरूरी बताया गया है।

ISI किन चीजों पर है अनिवार्य?

लगभग 16 तरह की सीमेंट पर, 14 तरह के इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स, 14 तरह की खाने पीने की चीजों पर, 4 तरह के ऑटोमोबाइल्स प्रोडक्ट पर, सिलेंडर, वॉल्व, रेगुलेटर, मेडकल में 3 तरह की चीजों पर, स्टील के सामान पर, हेलमेट पर, फुटवेयर पर, पशु आहार पर, नॉन इलेक्ट्रिक खिलौनों पर, केबल्स पर, किचन में उपयोग होने वाले सामान जैसे प्रोडक्ट्स पर ISI मार्क जरूरी होता है।

इसे भी पढ़ें: Pension Scheme Retirement: अपना मकान है तो बुढ़ापे में ना करें पैसों की चिंता, जानें क्या है स्कीम?