Paytm का शेयर सबसे नीचे, निवेशकों के डूबे इतने रुपये

PayTM
Scource-TV9

नोटबंदी के बाद से डिजिटल पेमेंट का विस्तार हुआ हैं, जिसके बाद तमाम तरह की ऑनलाइन पेमेंट मेथड वाली कम्पनी मार्केट में आ गई हैं। निवेशकों की नज़र से देखा जाए तो शेयर मार्केट में बहुत से निवेशकों ने अलग-अलग तरह की ऑनलाइन पेमेंट करने वाली कम्पनियों में पैसा इन्वेस्ट कर दिया हैं। लेकिन अब खबर आ रही हैं, की डिजिटल पेमेंट कंपनी Paytm का शेयर लगातार टूट रहा हैं। इसमें निवेश करने वाले निवेशक अपने बहुत सारे रुपये अब तक डुबा चुके हैं, क्योंकि ये शेयर अपने आईपीओ प्राइस से अब 42 प्रतिशत नीचे आ चुका हैं।

Paytm ने पिछले साल 8 नवंबर को जब अपना आईपीओ लॉन्च किया था, तब Paytm ने अपने शेयर का मूल्य अपर बैंड पर 2150 रूपये रखा था। लेकिन ठीक 10 दिन बाद जब ये 18 नवंबर को लिस्ट हुआ, उसी दिन 27 फ़ीसद गिरकर बंद हुआ था। इसी के चलते ही शेयर मार्केट द्वारा पेटीएम में निवेश करने वाले इन्वेस्टर्स के पहले ही दिन 1 लाख करोड़ रूपये से भी ज़्यादा पैसे डूब गए थे। BSE पर शुक्रवार को कम्पनी का शेयर 1230 रुपये बंद हुआ, कम्पनी के आईपीओ प्राइस के मुक़ाबले यह 42.7 फ़ीसदी की कमी हैं।दिन में कारोबार के दौरान पेटीएम के शेयर ने 1230 रूपये के अपने 52 हफ़्ते के निचले स्तर को छुआ था।

Paytm app
Image Credit: paytm/ Instagram

निवेशकों के हाथ लगी निराशा, सेबी के नियम अनुसार रिटेल निवेशक किसी आईपीओ में लगभग 2 लाख रूपये का निवेश कर सकते हैं। आम तौर पर रिटेल निवेशक लंबे समय के लिए किसी शेयर में निवेश करते हैं। तो ऐसे में अगर किसी निवेशक ने आईपीओ के वक्त कम्पनी के 100 शेयर ख़रीदे होंगे, तो उसे 2,15,000 रुपये तक का निवेश करना पड़ा होगा। इस तरह मौजूद शेयर भाव पर उस निवेशक को 91,800 रूपये का नुक़सान हैं।

महज 2 महीने में ही निवेशकों को कम्पनी शेयर पर इतना नुक़सान हुआ हैं। Paytm ने 18,300 करोड़ रुपये का आईपीओ पेश किया था। ये भारत देश के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ था, इससे पहले सिर्फ़ कोल इंडिया ने क़रीब 15,000 करोड़ रुपये का सबसे बड़ा आईपीओ लाया था। कम्पनी के शेयर में गिरावट ऐसे समय में आई हैं जब कुछ दिन पहले पेटीएम के शेयर को दूसरी bullish रेटिंग मिली हैं। जेपी मोर्गन ने बुधवार को पेटीएम शेयर को ओवररेट रेटिंग दिया था।

यह भी पढ़ें: साल 2030 तक एशिया की दूसरी बड़ी अर्थव्यवस्था बन जाएगा यह देश- आईएचएस मार्केट का दावा

यह भी देखें: