VOTER ID CARD: अब घर बैठे कर सकते हैं वोटर आईडी को आधार कार्ड से लिंक,जानिए पूरी डिटेल

voter id card
Image credit: wikimedia commons

चुनाव आयोग आधार कार्ड (Aadhaar Card) और वोटर आईडी कार्ड (Voter ID Card) को लिंक करने का खास अभियान चला रहा है। आयोग का दावा है कि इससे इलेक्टोरल रोल में डुप्लीकेसी से बचा जा सकेगा और चुनावों में धांधली रोकने में भी मदद मिलेगी।केंद्र सरकार चुनाव कानून में संशोधन को लेकर बिल लेकर आई थी। यह बिल संसद से पास हो चुका है और अब कानून बन चुका है। इसके बाद वोटर आईडी और आधार कार्ड को लिंक करने का रास्ता साफ हो गया है। हालांकि, यह लिंक करने की प्रक्रिया पूरी तरह से स्वैच्छिक है। लिंक करने के लिए मतदाताओं को मजबूर नहीं किया जाएगा।

VOTER ID CARD को लिंक करने से क्या होगा फायदा

वोटर आईडी को आधार कार्ड से लिंक करने के दो बड़े फायदे होंगे। पहला तो ये कि एक व्यक्ति एक ही बार अपना नाम वोटर लिस्ट में दर्ज करवा सकेगा. इससे डुप्लीकेसी रुकेगी। दूसरा ये कि फर्जी वोटर आईडी बनाने पर लगाम लगाई जा सकेगी।

कैसे करें लिंक

आधार और वोटर आईडी को लिंक करने का काम ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से हो सकता है. आप आधार केंद्र पर जाकर ऐसा करवा सकते हैं। या ऑनलाइन चुनाव आयोग की वेबसाइट और चुनावी पंजीकरण कार्यालयों में ऑनलाइन उपलब्ध आवेदन फॉर्म 6-बी भरना होगा। इसे वोटर हेल्पलाइन ऐप और राष्ट्रीय मतदाता सेवा पोर्टल पर भी ऑनलाइन जोड़ा जा सकता है।

ऐसे करें घर बैठे VOTER ID CARD को लिंक

इसके लिए सबसे पहले राष्ट्रीय वोटर्स सर्विस पोर्टल (NVSP) की आधिकारिक वेबसाइट (nvsp.in) पर जाएं।
पोर्टल पर लॉग इन करें। अब होमपेज पर ‘मतदाता सूची में खोजें’ विकल्प का चयन करें।
वोटर आईडी खोजने के लिए व्यक्तिगत जानकारी दर्ज करें या EPIC नंबर और राज्य की जानकारी डालें।
बाईं ओर एक विकल्प दिखाई देगा, जिसमें फीड आधार नंबर लिखा होगा, इसपर क्लिक करें।
इसके बाद एक नई विंडो खुलेगी, जिसमें आपसे आधार की जानकारी दर्ज करने के लिए कहा जाएगा।
आधार की जानकारी दर्ज करने के बाद आपको रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर या ईमेल पर एक ओटीपी प्राप्त होगा।
ओटीपी दर्ज करने के बाद सबमिट कर दें।

यह भी पढ़ें: Tax Saving- टैक्स में जा रहें है आपके लाखों रूपये, जानिए कैसे मिलेगी छूट और कितना होगा फायदा?