COVID BOOSTER DOSE: सीरम इंस्टिट्यूट भारत में बूस्टर डोज़ कब तक लाएगा ?

COVID-19

कोरोना की दूसरी लहर की तस्वीरें अब तक लोगों के ज़हन से नहीं गई थी। वहीं कोविड के नए वैरियेंट ओमिक्रॉन ने सभी की चिंता और बढ़ा दी है। कोविड से लड़ने के लिए वैक्सीनेशन तो जारी है लेकिन हो सकता है कि यह नया वेरियेंट इसका आसानी से सामना कर सके। जिसे लेकर अब सवाल है कि भारत को कोविड वैक्सीन की तीसरी डोज़ यानि बूस्टर डोज़ कब दी जाएगी? आज इसही पर करेंगे विशेष चर्चा साथ ही बताएंगे कि आखिर क्यों ज़रुरी है बूस्टर डोज़ और किन लोगों को इसकी सबसे ज्यादा ज़रुरत और किन लोगों को नहीं ।

सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने देश में वैक्सीन का पर्याप्त स्टॉक का हवाला देते हुए बूस्टर डोज के रूप में कोविशील्ड (Covishield) के लिए DCGI से मंजूरी मांगी है. जी हां सीरम इंस्टीट्यूप बूस्टर डोज़ लाने की तैयारी में है। सूत्रों के अनुसार सीरम इंस्टिट्यूट ने कोरोना वायरस के नए वैरिएंट से निपटने के लिए बूस्टर शॉट की जरूरत बताई है. आपको बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट की ही वैक्सीन है कोविड शील्ड। बहुत से देशों में तीसरी डोज़ यानि बूस्टर डोज़ देने का काम शुरु किया जा चुका है। जिसमें यूके, अमेरिका, इजराइल, और कनाडा जैसे देशों के नाम शामिल हैं। जिसके बाद भारत भी इस नए वेरिएंट से बचाव के लिए जुट चुका है।

वैक्सीन की 2 डोज़ के बावजूद तीसरी ज़रुरत क्यों?

अब सवाल ये हैं कि जब सभी को वैक्सीन की 2 डोज़ लग चुकी हैं तो तीसरी की ज़रुरत क्यों ? ऐसा इसलिए क्युंकि नए वेरिएंट को ज्यादा असरदाई और बहुत तेज़ी से फैलने वाला वेरिएंट बताया जा रहा है। ऐसे में बहुत से देश तीसरी डोज़ की ओर बढ़ रहे है।

covid 19
Image Credit: Pixabay

किसे बूस्टर की ज़रुरत?

दूसरा सवाल किन लोगों को इसकी सबसे पहले ज़रुरत? अगर आपा इम्यून सिस्टम बहुत कमज़ोर है और आप आसानी से बिमारियों से संक्रमित हो जातें हैं या आपको कोविड हो चुका हो जिस दौरान आपको बहुत सी तकलीफों सामना करना पड़ा हो तो आपके लिए बूस्टर डोज़ ज़रुरी है। आपकी उम्र ज्यादा है और स्वास्थ्य ठीक नहीं रहता है तो बूस्टर डोज़ आने पर इसे ज़रुर लगवाएं।

किसे बूस्टर डोज़ की ज़रुरत नहीं?

तीसरा सवाल ये कि किन लोगों को इसकी खास ज़रुरत नहीं है? अगर आपका शरीर तंदरुस्त हैं और अगर आप कोविड से संक्रमित हो चुके हैं लेकिन उस दौरान आपको ज़रा भी तकलीफ नहीं हुईं तो आपके लिए बूस्टर डोज़ इतनी ज़रुरी नहीं क्युंकि आपकी बॉडी के अंदर पहले ही कोविड से लड़ने की क्षमता बन चुकी है। और यदि आप आने वाले समय में भी कोविड से संक्रमित होतें हैं. तो हो सकता है वो भी आपके शरीर पर ज्यादा असरदार साबित नहीं होगा.

गौर करने वाली बात ये भी है कि अगर अभी तक आप कोरोना के संक्रमित नहीं हुए तो सबसे ज्यादा ख्याल रखने की ज़रुरत आपको है क्युकि ये वायरस आपके शरीर के लिए अभी भी नया है।

ये भी पढ़ें: कोरोना के नए वेरिएंट पर WHO ने क्यों कहा, सावधान हो जाइए?