World AIDS Vaccine Day: जिंदगी को खोखला कर देता है एड्स, संक्रमित होने के बाद इंसान को कैंसरा का खतरा

  
World AIDS Vaccine Day: जिंदगी को खोखला कर देता है एड्स, संक्रमित होने के बाद इंसान को कैंसरा का खतरा

World AIDS Vaccine Day:  कई सालों से एचआईवी टीका विकसित करने के लिए गहन रिसर्च की जा रही हैं। आज भी वैज्ञानिकों के सामने इसे लेकर काफी चुनौतियां हैं। एचआईवी वायरस अभूतपूर्व ढंग से जेनेटिकली खुद को बदल लेता है। इसमें व्यक्ति को आजीवन संक्रमित करने की क्षमता है। हर साल 18 मई को विश्व एड्स वैक्सीन डे मनाया जाता है।

वर्ल्ड एड्स वैक्सीन डे

अमेरिका के नेशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ एलर्जी और इन्फेक्शियस डिजीज ने 18 मई को वर्ल्ड एड्स वैक्सीन डे मनाने की शुरुआत की थी। एड्स वैक्सीन के प्रति लोगों को जागरूक करने की जरूरत को देखते हुए विश्व के ज्यादातर देशों में यह मनाया जाने लगा। भारत में भी हर वर्ष एचआईवी वैक्सीन जागरूकता दिवस या एचआईवी वैक्सीन डे 18 मई को मनाया जाता है। टीके की महत्ता और इस दिशा में लगे वैज्ञानिकों के कार्यों की महत्ता से आम लोगों को अवगत कराने के लिए भी वर्ल्ड एड्स वैक्सीन डे मनाया जाता है।

वैक्सीन की खोज में कुछ बाधाएं

वैज्ञानिक इस कोशिश में लगे हुए हैं कि वायरस के प्रति सुरक्षात्मक प्रतिरक्षा को कैसे प्रेरित किया जाए।एचआईवी वायरस लॉन्ग टर्म में भी व्यक्ति के स्वास्थ्य को प्रभावित करता है। इसके बारे में जानने के लिए हमने उजाला सिग्नस ग्रुप ऑफ़ हॉस्पिटल के फाउंडर और डायरेक्टर डॉ. शुचिन बजाज से बात की।

कैंसरा का खतरा

एड्स प्रतिरक्षा प्रणाली को कमजोर कर देता है। इससे व्यक्ति समय के साथ संक्रमणों के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाता है। इसके कारण निमोनिया, टीबी, कैंडिडिआसिस साइटोमेगालोवायरस संक्रमण और टोक्सोप्लाज़मोसिज़ शामिल हैं। ड्स से पीड़ित व्यक्तियों में कुछ प्रकार के कैंसर विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है। विशेष रूप से वे जो वायरल संक्रमण से जुड़े होते हैं। इनमें कपोसी का सरकोमा, गैर-हॉजकिन लिंफोमा और इनवेसिव सर्वाइकल कैंसर शामिल हैं।

ये भी पढ़ें- Health Tips: ये 5 स्वाद कई बीमारियों की ओर करते हैं इशारा, जानें और मन की नहीं लक्षण की सुनें  

Tags

Share this story

Around The Web

अभी अभी